क्या महिलाएँ बाइबल सिखा सकती हैं?

(-)क्या महिलाये कलीसिया में बोल सकती है?
(-)क्या महिलाएँ बाइबल सिखा सकती हैं?

१. जैसा कि बाइबल में किसी आयत के अध्ययन के साथ, हमें संदर्भ से शुरू करना चाहिए। बाइबल में सब कुछ किसी के बारे में किसी के द्वारा लिखा गया है।
१. इससे पहले कि आप किसी भी आयात को पूरी तरह से लागू कर करे, आपको पहले आयात के समय, ऐतिहासिक अर्थ को निर्धारित करना होगा। दूसरे शब्दों में, उन लोगों के लिए इसका क्या मतलब था जिनके लिए यह पहली बार लिखी गयी थी?
२. आपको यह भी निर्धारित करना होगा कि एक आयात हर दूसरी आयात के साथ कैसे फिट बैठती है, उस किताब के साथ जिसमें यह पायी जाती है, साथ ही आयात पूरी बाइबल के साथ कैसे फिट बैठती है।
३. आप एक आयात नहीं ले सकते हैं और दोषपूर्ण निष्कर्षो के बिना इसके संदर्भ के अलावा इसे लागू कर सकते हैं।
२. जैसा कि हम इस आयत के संदर्भ में अध्ययन करते हैं, हम पाएंगे कि १ करूं २:१२ सर्वकालिक नहीं है, यानि बाइबल सिखाने वाली महिलाओं के खिलाफ हमेशा के लिए प्रतिबंध। यह एक विशिष्ट समय,और स्थान पर एक विशेष स्थिति से संबंधित है।

१. १ और २ तिमोथियुस और तीतुस को कभी-कभी देहाती पत्र कहा जाता है। वे पौलुस द्वारा दो युवा पुरुषों, तिमोथियुस और तीतुस को लिखे गए थे।
१. उन्हें कलीसिया चलाने की जिम्मेदारियों से लिए प्रोत्साहित करने और उनकी मदद करने के लिए लिखा गया था।
२. तिमोथियुस एफिसस शहर और एशिया माइनर के अन्य शहरों में कलीसिया के साथ काम कर रहा था। तीतुस क्रेते द्वीप पर कलीसिया की देखरेख कर रहा था।
२. लोगों को अन्य सिद्धांत सिखाने से रोकने के लिए पौलुस ने इफिसुस में तिमोथियुस को छोड़ाI १ तिमो १: ३
१. "अन्य सिद्धांत" में सही सिद्धांत के अलावा कुछ और विचार था। जब तक देहाती पत्र लिखे जाते, तब तक झूठे उपदेशों के बीज बढ़ने लगे थे।
२. सभी देहाती पत्रों में पाया गया एक विषय है - झूठे शिक्षको को सिखाने से रोकना। तीतुस १: १३,१४
३. इफिसुस में जिस समस्या का तिमोथियुस को सामना करना पड़ा था, और जिस समस्या के बारे में पौलुस अपने पत्र में बात कर रहे थे, वह झूठे शिक्षक थी। उन शिक्षकों में से कुछ महिलाएं भी थीं।
३. १ तिमो १: ३ तीमुथियुस से कहता है कि वे गलत सिद्धांत सिखाने वालो पर दुष्टि करे। कुछ शब्द ग्रीक में एक न्यूटर सर्वनाम से आते है जिसका अर्थ है पुरुष या महिलाये।
१. नए नियम के क्लासिक ग्रीक शब्दकोश के लेखक W.E.VINE,के अनुसार, इस शब्द का अनुवाद कुछ विशिष्ट व्यक्तियों के लिए किया गया है। यदि पौलुस केवल पुरुषों के सिखाने के बारे में कहना चाह रहा था (क्योंकि अगर केवल पुरुष ही सिखा सकते थे), तो वह पुरुषों के लिए ANERI शब्द का उपयोग कर सकता था।
२. इस विशेष शब्द का उपयोग इस संभावना को इंगित करता है कि महिलाएं इफिसुस में पढ़ा रही थीं। ३. समस्या शिक्षकों (जो भी वे थे) का लिंग क्या था यह नहीं थी, बल्कि वे जो सिखा रहे थेI (उनके सिद्धांत)।

१. कई जेनोस्टिक्स ने मसीही होने का दावा किया, लेकिन वे जो मानते और सिखाते थे वह ध्वनि, सत्य, सिद्धांत के विपरीत था। पूरी तरह से विकसित होने के लिए सूक्तिवाद को कई शताब्दियां लगीं, लेकिन इस विधर्म की शुरुआत पहले से ही पौलुस के दिनों में मौजूद थी।
१. हम शास्त्रों का अध्ययन करके जेनोटिक्सट के बारे में ज्यादा नहीं बता सकते। जेनोटिक्सट के बारे में हम जो कुछ भी जानते हैं, उसमें से ज्यादातर २ वीं और ३ वीं शताब्दी में कलीसिया फादर्स के लेखन से आए थे, जब नोनेटिक्सट एक पूर्ण विकसित पाषंड में विकसित हुआ था।
२. अलेक्जेंड्रिया के कलीसिया फादर्स क्लेमेंट (दूसरी शताब्दी), इरेनेअस (दूसरी शताब्दी के अंत में), और हिप्पोलिटस (तीसरी शताब्दी) सभी ने जेनोटिक्सट के बारे में लिखा था।
३. कलीसिया के फादर्स ने जेनोटिक्सट के सिद्धांतों का खंडन करने के लिए लिखा था। ऐसा करते हुए उन्होंने जेनोटिक्सट प्रचारक (महिला महिला प्रचारक सहित) का नाम दिया और जेनोटिक्सट सिद्धांतों की व्याख्या की।
२. जेनोटिक्सटस का आधार ज्ञान विशेष या, गुप्त था। जेनोटिक्सटस यह सिखाते थे कि ज्ञान के माध्यम से लोगों को मुक्ति मिलती है।
१. जेनोटिक्सट शब्द ग्रीक शब्द ज्ञान (KNOWLEDGE =GNOSIS) से आता है । विज्ञान में यह शब्द
१ तिमो ६:२० GNOSIS है।
२. विशेष ज्ञान वाले इनमे से कुछ लोगों को मध्यस्थ माना जाता था। जेनॉटिक्सट का मानना ​​था कि यदि आप मध्यस्थों के गुप्त ज्ञान का पालन करते हैं तो आप मुक्ति पा सकते है। जेनोटिक्सट ने पाप, अपराध, या विश्वास के बारे में कुछ नहीं सिखाया। उन्होंने मन को उकसाया और सिखाया कि मामला सिर्फ बुराई है।
३. जेनोटिक्सटस में उनकी शुरुआत के बारे में विस्तृत वंशावली और मिथक थे।
१. उनका मानना ​​था कि हव्वा को पहले बनाया गया था, और वह आदम के लिए "जीवन लायी" थी। उतपति ३:२०
२. उनका मानना ​​था कि जब हव्वा ने अच्छे, बुरे ज्ञान के पेड़ से खाया, तो उसने गुप्त, विशेष ज्ञान प्राप्त किया, उसका कृत्य पापपूर्ण नहीं था, लेकिन अच्छा था, क्योंकि उसने मानवता को प्रबुद्ध किया।
इस मिथक के माध्यम से महिलाओं में मध्यस्थ बनने के विचार विकसित हुए।
३. हिप्पोलिटस ने जेनॉटिक्सट के बारे में लिखा, "वे इन मनहूस महिलाओं को प्रेरितों से ऊपर बताते थे ... ताकि लोग यह मान लें कि उनमें से कुछ मसीह से भी श्रेष्ठ है।"
४. इफिसुस अपने आप में बहुत कामुक, दुष्ट शहर था। इफिसुस कि कलीसिया में अधिकांश लोग जेंटाइल या पूर्व मूर्तिपूजक थे। जब वे मसीह में आए तो वे अपने साथ कई झूठे विचार, सिक्षाए लेकर आए।
१. इफिसुस देवी डायना के महान मंदिर का घर था। शहर में हजारों मंदिर वेश्याएं थीं। उनका मानना ​​था कि व्यभिचार लोगों को दिव्यता के संपर्क में लाता है।
२. ल्यूड यौन व्यवहार कई प्राचीन धर्मों का हिस्सा थे और जेनोटिक्सट ने भी शरीर और दिव्यता को एक साथ लाने के लिए यौन संमबंदों का इस्तेमाल किया था।
३. यह अनैतिकता के बीज कलीसिया में रेंगने की कोशिश करते थे। प्रकाशित वाक्य की पुस्तक में जब यीशु ने एशिया माइनर में सात कलीसियाओं के लिए यहुना को संदेश दिया (जो इफिसस में स्थित थी), तेयातिरा के लिए उनके संदेश में झूठे सिद्धांत सिखाने वाली महिलाओं को चिंतित किया। प्रका २: २०,२१
१. ध्यान दे, यह कलीसिया महिलाओं को सिखाने दे रही थी। यदि महिलाओं को सिखाना नहीं है, तो वह क्यों सीखा रही थी? पौलुस को इस बात से कोई समस्या नहीं थी कि वह एक महिला थी। बल्कि,
मुदा उनके गलत सिद्धांत थेI
२. इज़ेबेल ने यौन अनैतिकता के साथ संयुक्त विधर्मियों को सिखाया। वह एक जेनॉटिक्सट थी।

१. १ तिमो २: ८,९- पौलुस को महिलाओं के लिए मामूली पोशाक के बारे में निर्देश देना पड़ा जब वह सावर्जनिक सभाओ में प्राथना करेI
१. आयात ८-उसने पुरुषों को बताया कि प्रार्थना कैसे की जाए, उत्थान हाथों से, बिना क्रोध के, बिना किसी संदेह के।
२. आयात ९-तब पौलुस महिलाओं को प्रार्थना करने का तरीका बताता है। इसी तरह से (इसी तरह) यह पिछले कथन को संदर्भित करता है। महिलाओं को उठे हुए हाथों से प्रार्थना करनी थी, आदि कई टीकाकारों का कहना है कि व्याकरणिक स्पष्टता के लिए, प्रार्थना शब्द आयात ९ के साथ-साथ आयात ८ में भी होना चाहिए। (Conybeare)
३. पौलुस महिलाओं को यह बताते हैं कि उन्हें मामूली कपड़े पहनने चाहिए। इस संस्कृति में धनी महिलाओं ने "अत्यधिक श्रंगार" का इस्तेमाल किया, विशेष रूप से उनके बालों में (उन्होंने इसमें वे सोना लटकते थे)
ताकि उनके धन और उनकी शारीरिक बनावट पर ध्यान आकर्षित हो।
१. पौलुस यह नहीं कह रहा है कि महिलाएं मेकअप या गहने नहीं पहन सकती हैं। इस आयात का एक सांस्कृतिक संदर्भ है - अत्यधिक अलंकरण। मूल लोगो के लिए इसका मतलब यही होगा।
२. पौलुस उन्हें बताता है कि उन्हें शर्मिंदगी या विनम्रता, संयम की भावना या मन की आवाज़ और आत्म नियंत्रण की ज़रूरत है जिस तरह से वे कपड़े पहनते हैं।
२. १ तिमो २: १०-ये महिलाएं जो अनैतिक रूप से, अनुचित तरीके से कपड़े पहन रही थीं, वे भी परमेश्वर के वादे में बन्द कर ऐसा रही थीं।
१. ग्रीक में शब्द का नाम EPAGGELLOMAI है, सामान्य शब्द नहीं, HOMOLOGIA,
२. इस शब्द का मतलब किसी से कुछ वादा करना है। इसका उपयोग १ तिमो ६:२१ में भी किया गया है।
३.१ तिमो ५: ११-१५-वहाँ की युवा महिलाएँ उन चीजों के बारे में बात कर रही थीं जो उन्हें नहीं करनी चाहिए थीं।
४. २ तिमो ३: १-७-इफिसुस की महिलाएँ झूठी शिक्षा से प्रभावित हो रही थीं। संदर्भ हमें यह नहीं बताता है कि इन महिलाओं को अजीब सिद्धांत किसने सिखाया, लेकिन उन दिनों के सामाजिक रीति-रिवाजों से यह बहुत कम संभावना है कि पुरुष महिलाओं को पढ़ाने के लिए घरों में घुस रहे थे। शायद यह कोई और महिलाएं थीं।
५. इस पृष्ठभूमि की सभी जानकारी (ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संदर्भ) को ध्यान में रखते हुए, इफिसुस में महिलाओं के साथ समस्याओं के बारे में जानकारी के साथ, आइए १ तिमो २:१२ के संदर्भ में देखें।
१. पौलुस ने तिमोथियुस को लोगों को झूठे सिद्धांत (१: ३) सिखाने से रोकने के लिए कहा है, और उन्होंने तिमोथियुस से कहा है कि वह कुछ महिलाओं को सार्वजनिक रूप से प्रार्थना करते समय सही कपड़े पहनने का निर्देश दें (२: ८,९)। ये महिलाएँ लोगों को (२:१०) परमेश्वर में ला रही थीं।
२. ये महिलाएँ जो परमेश्वर में आई थी, कुछ जेनोस्टिक्स शिक्षक थी, पौलुस ने तिमोथियुस को इन्हे पढ़ाने से रोकने के लिए कहा था। हम आश्वस्त होने में कैसे सक्षम हैं?
१. ऐतिहासिक अभिलेख बताते हैं कि इस समय इस स्थान पर जेनोस्टिक्स एक समस्या थी।
२. जेनोस्टिक्स महिलाओं ने उनकी शिक्षाओं, उनके गुप्त ज्ञान, उनके गुप्त ज्ञान का पालन करने वालों को परमेश्वर में लेकर आई।
३. जेनोस्टिक्स महिलाएं अपने आप को मध्यस्थ मानती थीं जो पुरुषों को ज्ञान प्राप्त करवाने के लिए विशेष, गुप्त ज्ञान देती थीं, जैसा कि हव्वा ने आदम को दिया था। पौलुस ने यहां मध्यस्थों के विषय में बात की है।
१. १ तिमो २: १-७-पौलुस यह स्पष्ट करता है कि परमेश्वर और मनुष्य, के बीच केवल यीशु एक मध्यस्थ हैI
२. फिर, वह पुरुषों और महिलाओं से प्रार्थना करने का आग्रह करता है (आयात ८,९)। उन्हें मध्यस्थ के माध्यम से नहीं जाना है वे यीशु के कारण सीधे परमेश्वर के पास जा सकते हैं।
३. १ तिमो २: ११- पौलुस कहता है, "इन महिलाओं को सीखने दो।" दूसरे शब्दों में, उन्हें सिखाने से पहले उचित सिद्धांत सीखने की जरूरत है। और आयात १० में महिलाएं, जो परमेश्वर में आई थी।
१. उन्हें अधीनता के साथ मौन में सीखने की जरूरत है। पौलुस महिलाओं को पुरुषों के अधीन करने की बात नहीं कर रहा है।
२. चुप्पी शब्द (आयात १२ में भी प्रयुक्त) वही शब्द है जिसका अनुवाद १ तिमो २: २ में किया गया है, और इसमें "शांति है, दूसरों के लिए कोई अशांति पैदा करने" का विचार नहीं है। (W.E.VINE )
१. उन दिनों की सीखने की शैली सवाल और जवाब थी। लेकिन, यह शिक्षक के सम्मान के बिना अंतहीन चर्चा और प्रश्न पैदा कर सकता है। १ तिमो १: ४; ६: २०
२. पौलुस शांत महिलाओं की मांग नहीं कर रहा था, वह विनम्र छात्रों के लिए कह रहा था - छात्र उस शब्द के प्रति विनम्र हों जो शिक्षक को बाधित किए बिना सीखें।
४. १ तिमो २: १२-पौलुस यह नहीं कह रहा है, कि महिलाएं सिखा नहीं सकती हैं। दुःख का अधिक सटीक अनुवाद किया गया है, "मैं अनुमति नहीं दे रहा हूं"। (एन.आई.वी, रॉदरहैम, वेमाउथ, कॉनकॉर्डेंट लिटरल, कॉनबीयर, आदि)
१. पौलुस यह नहीं कह रहा है कि वह कभी भी महिलाओं को सिखाने नहीं देगा। वह कह रहा है: मैं इफिसुस में महिलाओं को सिखाने की अनुमति नहीं दे रहा हूं, इसलिए नहीं कि वे महिलाएं हैं, बल्कि इसलिए कि वे झूठे सिद्धांत सिखा रही हैं।
२. पौलुस ऐसा नहीं कह सकता था कि महिलाओं को कभी सिखाने नहीं देना चाहिए, क्योंकि उसने प्रिस्किल्ला को सिखाने दिया। उन्होंने वास्तव में उनके साथ काम किया, और सिखाने के लिए भी कहाI
३. पौलुस से प्रिस्किल्ला और उसके पति एक्विला की मुलाकात कुरिन्थ शहर में हुई थी। प्रेरितों के काम १८: १,२; १ करूं १६:१९
१. प्रेरित १८: १८,१९; २४-२६-वे पौलुस के साथ इफिसुस गए जहाँ उन्होंने एक व्यक्ति अपोलोस को सिखाया।
२. रोम में १६: ३ और २ तिमो ४:१९ पौलुस ने एक्विला से पहले प्रिसिला का उल्लेख किया है। वह उन दिनों के रिवाज के विपरीत था, जब तक कि पत्नी, पति को कुछ महत्वपूर्ण तरीके से पार नहीं करती।
३. बाइबल के कई विद्वानों का मानना ​​है कि प्रिस्किला, के नहीं उसके पति के पास शिक्षण की दांत थी, और वह इसमें अपनी पत्नी का समर्थन करता था।
५. १ तिमो २: १२-ग्रीक में Usurp अधिकार प्राधिकरण के लिए सामान्य शब्द नहीं है, EXOUSIA, जिसका उपयोग नए नियम (लूका १९:१०) में बत्तीस बार किया गया है। यदि पौलुस का अर्थ था कि महिलाएं पुरुषों को सिखाने के द्वारा उनको अधीन कर सकती है, तो वे EXOUSIA का उपयोग कर सकते थे।
१. यहाँ पर प्रयुक्त शब्द AUTHENTEIN है। यह केवल यहीं पाया जाता है। यह एक दुर्लभ ग्रीक ''वर्ब'' शब्द है। यह एक सामान्य धर्मनिरपेक्ष शब्द नहीं था। इसे मोटा और अशिष्ट माना जाता था।
२. पौलुस के दिनों में, ग्रीक नाटककारों ने इसका इस्तेमाल आत्महत्या के लिए या परिवार की हत्या के लिए किया था। इसका एक मतलब यौन संबंध भी था। तब तक नहीं जब तक तीसरी या चौथी शताब्दी में इस शब्द का मतलब शासन या सूदखोरी नहीं हो गया।
६. कई जेनोटिक्सट ने अपने शिक्षण के साथ यौन क्रियाओं को संयुक्त किया। इफिसुस की ये महिला शिक्षक अपने शिक्षण के साथ यौन आकर्षण का संयोजन कर रही थीं।
१. यह संस्कृति में असामान्य नहीं था। ग्रीक स्कूलों में महिला शिक्षक अमीर, उच्च वर्ग के लोगो के लिए स्वईच्छा से वेश्याएं थीं। उन्होंने अपने नर शात्रों को अपने व्याख्यान में यह स्पष्ट कर दिया था, कि उनकी दूसरी नौकरी क्या थी।
२. इस पत्र के पाठकों ने AUTHENTEIN को समझा लिया होगा कि इसका मतलब कामुक या प्रतीकात्मक मृत्यु है। नीतिवचन में कामुक महिला के बारे में कई चेतावनी दी गई है जो पुरुषों को मौत की ओर ले जाती है।
निति २: १६-१९; ५: ३-५; ९: १३-१८
३. दूसरे शब्दों में, पौलुस तिमोथियुस को बता रहा है: इन महिलाओं को झूठे सिद्धांत सिखाने और पुरुष सीखने वालो को यौन रूप से लुभाने की अनुमति न दें।
७. १ तिमो २: १३,१४ हमें इस बात का और सबूत देता है, कि पौलुस इफिसुस की उन महिला प्रचारकों के साथ गठजोड़ कर रहा था जो जेनोटिक्सट थीं। वह अब उनकी दो झूठी शिक्षाओं पर हमला करता है।
१. पौलुस ने स्पष्ट रूप से कहा कि हव्वा पहले नहीं बनाई गयी थी, बल्कि आदम था। और, जब उसने वह पेड़ से खाया, तो हव्वा को गुप्त ज्ञान नहीं मिला। उसे धोखा दिया गया और उसने पाप किया।
२. आयात १३,१४ ''के'' शब्द आयात १२ से जुड़े हैं। आयात १२ आयात १३ और १४ सूचीबद्ध तथ्यों पर आधारित है। महिलाएं इस प्रकार के सिद्धांत नहीं सिखा सकती।
८. १ तिमो २: १५– पौलुस ने तिमोथियुस को दिए अपने निर्देशों में इस बिंदु पर दुविधा का सामना किया।
१. यहूदी धर्मशास्त्र (जो प्रारंभिक कलिसिया के समस्या का एक और स्रोत था) महिलाओं को हीन मानते थे, और उन्हें संपत्ति मानते थे।
१. उन्होंने इन विचारों को सृजन क्रम पर आधारित किया (मनुष्य पहले बनाया गया था) और पतन की वजह (हव्वा ने पहले फल लिया और आदम को दिया)।
२. पौलुस को पता था कि इन विचारों का इस्तेमाल कलीसिया में महिलाओं को बंधन में रखने के लिए किया जाता था। वह इन झूठे विचारों में योगदान नहीं देना चाहता था, जिसमे उसने यह सब कुछ कहा।
२. इसलिए पौलुस ने तिमोथियुस को याद दिलाया कि, जिस को पहले बनाया गया था, वह इस तथ्य से संतुलित है कि महिलाएँ पुरुषों को जन्म देती हैं। १ करूं ११: ८-१२
१. आयात १५ – हव्वा के पाप के परिणामों को बच्चे (यीशु) के जन्म से रद्द कर दिया गयाI उतपति ३:१५
२. आयात १५-लेकिन वे, जेनोटिक्सट महिलाओं, सभी महिलाओं को मसीह के बलिदान से लाभ उठाने के लिए विश्वास, प्रेम, मन की आवाज और आत्म नियंत्रण में चलना चाहिए।

१. पौलुस जेनोटिक्सट महिलाओं के सिखाने के खिलाफ है, क्योंकि वे नहीं जानती थी कि वह क्या सीखा रही थी, और AUTHENTEIN के कारण या पुरुषों को यौन क्रियाओं के लिए मोहक कर रही थी।
२. लेकिन, क्योंकि पौलुस आशा के परमेश्वर की सेवा करता है, वह इन महिलाओं को आशा प्रदान करता है। यदि वे विनम्र सीखने वाली बन जाएंगी, ध्वनि सिद्धांत के शब्द के प्रति विनम्र हो जाएंगी, तो वे भी, अपने दोषपूर्ण विचारों को ठीक कर सकती हैं, और सच्ची मसीही महिलाओं के रूप में अपने भाग्य को पूरा करने के लिए आगे बढ़ेंगी।