परमेश्वर पवित्र आत्मा

{-} ट्रिनिटी का सिद्धांत
{-} ट्रिनिटी के बारे में अधिक
{-}परमेश्वर पवित्र आत्मा
(-)परमेश्वर पुत्र
(-)क्या यीशु परमेश्वर है?
(-)यीशु परमेश्वर है

१. हम सटीक सही ज्ञान के आधार पर परमेश्वर के साथ संबंध के लिए बनाए गए थे। यहुना ४:२४
१. परमेश्वर कौन है, इसका सही ज्ञान हमें यह समझने में मदद करेगा कि परमेश्वर ने हमारी मुक्ति और, छुटकारे के लिए क्या किया है। २ पतरस १: २
३. परमेश्वर कौन है, इसका सही ज्ञान धोखे से हमारी रक्षा करेगाI मति २४: ४,५
२. बाइबल हमें दिखाती है कि केवल एक ही परमेश्वर है, लेकिन पिता परमेश्वर (दिव्य) के भीतर तीन दिव्य व्यक्ति हैं - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।
१. बाइबल में, हम देखते हैं कि तीनों एक ही हैं, और वही करते हैं जो केवल परमेश्वर करते हैं और कर सकते हैं।
२. "परमेश्वर में'' अनन्त रूप से तीन सह-असमान और सह-संबंधित व्यक्ति मौजूद हैं, अर्थात्, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।" (जेम्स आर। व्हाइट)
३. ट्रिनिटी एक रहस्य है, हमारी वर्तमान समझ से परे है। १ करूं १३:१२
१. इसे समझाने का प्रयास बहुत मुश्किल है। इसे मनुष्य बुद्धि से समझा नहीं जा सकता।
२. हम सब कर सकते हैं, बस हमें यह करने की आवश्यकता है, कि त्रिगुण का सिद्धांत निश्चित रूप से बाइबल में बताया गया है, इसे स्वीकार करें, और परमेश्वर की प्रशंसा करें और उसकी पूजा करें।
४. जो लोग कहते हैं कि ट्रिनिटी नहीं है, आम तौर पर पुत्र और पवित्र आत्मा को नहीं समझते हैं।
१. कुछ कहते हैं कि पिता और पुत्र एक ही हैं। दूसरों का कहना है कि यीशु (पुत्र) परमेश्वर नहीं है, बल्कि एक साधारण मनुष्य था।
२. हमने पिछले कुछ पाठों में उन मुद्दों पे चर्चा की, इस अध्याय में, हम देखना चाहते हैं कि बाइबल त्रिगुण के पवित्र आत्माके बारे में क्या कहती हैI
३. हालाँकि, हम पहले ट्रिनिटी के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को बताना चाहते हैं।
५. कुछ लोग त्रिगुण के सिद्धांत को समझने में संघर्ष करते हैं क्योंकि कोई एक आयात नहीं है जो कहती है: परमेश्वर एक में तीन हैं। लेकिन, हमें समझना चाहिए
१. बाइबल ट्रिनिटी के अस्तित्व को साबित करने का प्रयास नहीं करती है, इसे मानती है।
२. हमें उन सभी आयात को देखना चाहिए जो परमेश्वर का वर्णन करती हैं।
६. इसके अलावा, हमें समझनी चाहिए परमेश्वर की स्पष्ट प्रस्तुति या खुद को एक परमेश्वर में तीन व्यक्तियों के रूप में प्रकाशित करना, और उन्होंने पापों से मनुष्य को बचाने के लिए क्या किया था, जब पुत्र, त्रिगुण का दूसरा व्यक्ति, स्वर्ग छोड़ कर पृथ्वी पर आया था।
७. पहले मसीहियों ने कभी भी ट्रिनिटी की अवधारणा पर सवाल नहीं उठाया होगा।
१. वे तीन साल तक धरती पर बेटे के साथ चले। उन्होंने पिता को स्वर्ग से बोलते सुना। मति ३: १६,१७
२. तब वे पिन्तेकुस्त के दिन पवित्र आत्मा पाते है। प्रेरितों २: १-४

१. परमेश्वर ने मनुष्य यानि हमें बनाने का फैंसला लिया, और हमें उस दायरे, उस प्रेम, उस संगति में आमंत्रित किया।
१. परमेश्वर ने मनुष्य को यह जानते हुए बनाया है कि हम पाप करेंगे और उसके परिणामों के लिए पाप के बंदी बनेंगे, जो हमें उस दायरे, संगति के लिए अयोग्य बनाता है, जिसके लिए उसने हमें बुलाया था।
२. हालाँकि, परमेश्वर उस योजना के साथ आगे बड़ा क्योंकि उनकी योजना थी कि वह हमे खरीद कर पाप की कैद से छुड़ाए, और हमें अपनी संगति और संतान होने के लायक बनाये।
३. उस योजना को रिडेम्पशन (छुड़ाना = पाप की कैद से खरीदा हुआ ) या मुक्ति कहा जाता है (जो हमें हमारे पापों से बचाती है)
२. ट्रिनिटी के प्रत्येक सदस्य ने हमारी मुक्ति में एक विशिष्ट भूमिका निभाई है।
१. पिता ने इसकी योजना बनाई और हमारे पापों के लिए पुत्र को मरने के लिए भेजा। इफ १: ४,५;
रोम ८: २९,३०; प्रेरितों २:२३; यहुना ३:६; यशा ५३: ६,१०
२. पुत्र स्वेच्छा से स्वर्ग छोड़कर धरती पर आया, वह हमें परमेश्वर को दिखाने और सलीब पर हमारी जगह लेने और हमारे पापों के लिए दंडित होने के लिए आया था।
यूहन्ना १:१८; क्लू १:१५; इब्रा २: ९,१४,१५; मत्ती २०:२८
३. जब यीशु स्वर्ग में वापस गया, पवित्र आत्मा आया और अब वह हमारे छुटकारे के लिए काम करता है। वह मुक्ति दिलाता है। वह इसे हमारे जीवन में उतारता है। तीतुस ३: ५
३. यीशु के क्रूस पर जाने से एक रात पहले, अपने चेलों को इस बात के लिए तैयार करने के लिए कुछ बातें कही थीं कि वह स्वर्ग लौटने के लिए उन्हें छोड़ रहा था। यहुना १३: १-१६: ३३
४. यीशु ने उन्हें जो बातें बताईं उनमें से एक यह थी कि वह और पिता उन्हें पवित्र आत्मा भेजने वाले थे। पवित्र आत्मा के बारे में इन तथ्यों पर ध्यान दें:
१. यहुना १४: १६,१७;२६- एक ही प्रकार का दूसरा। पवित्र आत्मा यीशु की तरह है।
२. सहायक, मददगार, सहायता देनेवाला या सहायता देने की क्षमता या अनुकूलन क्षमता को दर्शाता है।
३. दिलासा देनेवाला, शक्ति प्रदान करने वाला सहायक, मददगार। याहूना १४: १६,२६; १५:२६; १६: ७-१५
५. यीशु क्रूस पर चढ़ाया गया, मृतकों में से जी उठा, और स्वर्ग लौटने से पहले पृथ्वी पर चालीस और दिन बिताए।
१. चेलो के प्रति उनकी वचनबद्धता यह थी कि पिता के पवित्र आत्मा, के लिए यरूशलेम में प्रतीक्षा करें। प्रेरितों १: १-९
२. चेलों ने वही किया जो यीशु ने कहा था, और दस दिन बाद, पवित्र आत्मा उन पर आया और उन्हें भर दिया। प्रेरितों २: १-४
३. घोस्ट और स्पिरिट ग्रीक में एक ही शब्द है। घोस्ट ''आत्मा '' एक लैटिन शब्द से आया है। स्पिरिट ''आत्मा'' एक एंग्लो-सैक्सन शब्द से आता है।
६. उस समय से, चेले आगे बढ़े और यीशु के जी उठने का प्रचार करना शुरू किया, सुसमाचार का प्रचार किया, महान अचम्भो और चमत्कारों के साथ।
७. जैसा कि हम ''प्रेरितो के काम'' की पुस्तक को पढ़ते हैं, हम एक दिव्य व्यक्ति, ट्रिनिटी के तीसरे व्यक्ति पवित्र आत्मा को देखते हैं, इन पहले मसीहियों के साथ काम करते हुए - उनसे बोलता है, उनका मार्गदर्शन करता है, उन्हें सशक्त बनता है, उनके द्वारा काम करता है, जैसे- जैसे उन्होंने सुसमाचार का प्रचार किया।
८. जो लोग त्रिगुण और पवित्र आत्मा को नहीं समझते हैं वे कहते हैं कि वह एक बल है - पवित्र आत्मा।
१. लेकिन, बाइबल स्पष्ट रूप से सिखाती है कि पवित्र आत्मा एक दिव्य व्यक्ति है, जो ट्रिनिटी का तीसरा व्यक्ति है।
२. वह पिता और पुत्र के साथ एक-दूसरे के साथ समान है। समान = समान प्रकृति में; वह परमेश्वर है। पिता या पुत्र की तरह ही हमेशा अस्तित्व में रहा है।
३. पवित्र आत्मा के विषय में दो महत्वपूर्ण मुद्दे - वह एक व्यक्ति है और वह परमेश्वर है।

१. वह पिता और पुत्र से पहचाना जाता है जो दर्शाता है कि वह एक व्यक्ति है। मत्ती २८:१९
१.परमेश्वर का नाम ग्रीक में एकवचन है, एक परमेश्वर (एक में संगठित- तीन अलग-अलग व्यक्तियों) को दर्शाता है।
२. पिता एक व्यक्ति है। पुत्र एक व्यक्ति है, इसलिए एक व्यक्ति, एक बल के साथ दो व्यक्तियों का एक ही नाम कैसे साझा कर सकते हैं?
२. वह मसीहियों से जुड़ा हुआ है जो दर्शाता है कि वह एक व्यक्ति है। २ करूं १३:१४;
प्रेरितो १५:२८; प्रेरितों ५:३२
३. पुत्र पवित्र आत्मा को एक व्यक्ति के रूप में संदर्भित करता है। यहुना १४: १६,१७,२६; १५:२६; १५: ७,८; ​​१३,१४
४. पवित्र आत्मा एक व्यक्ति के रूप में खुद को संदर्भित करता है। प्रेरितों के काम १३: २; १०: १९,२०
५. वह एक व्यक्ति के गुणों को प्रदर्शित करता है: उसके पास एक बुद्धि है (रोम ८: २६,२७); उसे ज्ञान है (१ करूं २: १०,११); उसकी प्रभुसत्ता होगी (१ करूं १२:११)।
६. वह उन सब करता है जो त्रिगुण करते हैं: वह सिखाता है (यहुना १४:२६); वह गवाही देता है
(यहुना १५:२६); वह मार्गदर्शन करता है (यहुना १६:१३); वह अन्तर्वासना करता है (रोम ८:२६); वह प्यार करता है (रोम ५: ५; १५:३०); वह खोज करता है (१ करूं २:१०); वह बोलता है (प्रेरितों ८:२९; २१:११; प्रका २: ७)।
७. उसकी निन्दा की गयी (मत्ती १२: ३१,३२), (प्रेरितों के काम ५: ३) झूठ बोला गया, विरोध किया (प्रेरितों ७:५१), शोकग्रस्त (इफ ४:३०), और अपमान किया (इब्रा १०:२९)।

१. उसके पास ईश्वरीय गुण हैं - वह ऐसा है जो केवल परमेश्वर हैं: अनन्त (इब्रा ९:१४); सर्वव्यापी (भजन ११३९: ७); सर्वव्यापी (लूका १:३५); सर्वज्ञ (१ करूं २: १०,११;
यहुना १६: २७,२८; १४:३१)।
२.वह सबह कुछ करने में सक्षम है जो केवल परमेश्वर कर सकता है: सृष्टि (उत्पत्ति १: २; अय्यूब ३३: ४); नई सृष्टि
(यहुना ३: ५- ८; तीतुस ३: ५); शास्त्रों से प्रेरणा (२ पतरस १: २०,२१; २ तिमो ३:१६); मसीह का मुर्दो से जी उठना (रोम ८:११)।
3. नए नियम के लेखक पवित्र आत्मा में मार्ग लागू करते हैं जो मूल रूप से पुराने नियम में यहोवा के बारे में लिखे गए थे। इब्रा १०: १५-१७; यर्मि ३१: ३१-३४
४. उनका नाम परमेश्वर के नाम के साथ जुड़ा है। मत्ती २८:१९
५. बाइबल उसे परमेश्वर कहती है। प्रेरितो ५: ३,४; १ करूं १२: ४-६

१. स्पिरिट ''आत्मा'' शब्द का अर्थ है सांस या हवा (गैर-व्यक्तिगत), और, आत्मा, ग्रीक में, (न ही पुरष या इस्त्री लिंग शब्द है), गैर-व्यक्तिगत)।
१. रोम ८: १६,२६-अनुवादित: सिर्फ आत्मा (किंग जेम्स वर्जन)। यह घटिया अनुवाद है। RSV इसे सही करता हैI
२. स्वयं यीशु ने, पवित्र आत्मा के लिए (पुल्लिंग) शब्द का उपयोग किया। यहुना १६: ७,८; १३-१५
३. और, शास्त्र में अधिकांश अन्य स्थानों पर, सर्वनाम का उपयोग आत्मा के लिए किया गया है जब वह पवित्र आत्मा का जिक्र करता है।
२. पवित्र आत्मा का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किए गए चिन्ह गैर-व्यक्तिगत हैं - कबूतर, तेल, पानी, आग।
१. यीशु का वर्णन करने के लिए (दरवाजे, चट्टान, रोटी) चिन्हों का उपयोग किया जाता है, लेकिन कोई भी यह नहीं दर्शाता कि यीशु एक व्यक्ति नहीं है।
२. अनंत जीवों को परिमित करने के लिए शब्द दूर जा सकते हैं।
३. वह उपहार और शक्तियाँ और फल देता हैI
१. लोग कभी-कभी इन चीजों के साथ भ्रमित करते हैं। पवित्र आत्मा बात नहीं करता। वह एक दिव्य व्यक्ति है जो आपको नई जीभ के साथ बोलने में सक्षम बनाता है। प्रेरितों २: ४
२. लोग अभिषेक की बात करते हैं जैसे कि यह एक बल है। लेकिन यह पवित्र आत्मा के द्वारा है, एक दिव्य व्यक्ति, जो दिव्यता से से खुद को प्रदर्शित करता है।
४. बाइबल में कई स्थानों पर, पवित्र आत्मा को मसीह की आत्मा, पुत्र की आत्मा और पिता की आत्मा कहा जाता है। मत्ती १०:२०; लूका ४:१८; प्रेरितों के काम ५: ९; रोम ८: ९,११;
१ करूं ६:११; गला ४: ६; फिल १:१९
१. फिर भी, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा को स्पष्ट रूप से कई आयातो में अलग-अलग व्यक्तियों के रूप में दिखाया गया है। मति ३: १६,१७; प्रेरितों १०:३८
२.१ थिस्स १: ३-५; II थिस्स २:१३; १ करूं २: २-५; १ करूं ६:११; १ करूं १२: ३; २ करूं १: २१,२२;
२ करूं १३:१४; रोम १४: १७,१८; रोम १५:१६; क्लूस १: ६-८; इफ २:१८; इफ ३: १६,१७;
इफ ४: ४-६
५.कुछ लोग कहते हैं कि पवित्र आत्मा बस एक दिव्य बल होगा क्योंकि हम पवित्र आत्मा में बपतिस्मा लेते हैं। मति ३:११
१. लेकिन, हमें मसीह में बपतिस्मा दिया गया है (रोम ६: ३; गला ३:२७) - नए जन्म में हम मसीह में शामिल हुए है - और इसका यह मतलब नहीं कि यीशु एक व्यक्ति नहीं है।
२. पवित्र आत्मा में बपतिस्मा लेने का मतलब यह नहीं है कि वह एक व्यक्ति नहीं है। इसका अर्थ है कि वह सर्वव्यापी है और वह आत्मा हैI

१. पवित्र आत्मा ने हमारे छुटकारे में अधीनता की भूमिका भी चुनी।
१. उसने खुद को पिता और पुत्र द्वारा भेजे जाने की अनुमति दी। यहुना १५:२६
३. यहुना १६: १३,१४-वह खुद से नहीं बोलता है। वह मसीह की ओर ध्यान आकर्षित करता है।
२. पवित्र आत्मा पिता और पुत्र के समान ध्यान नहीं पाता।
१. लेखकों के अभिवादन में, अक्सर, केवल पिता और पुत्र का उल्लेख किया गया है। रोम १: ७; १ करूं १: ३; २ करूं १: २; आदि।
३. परमेश्वर के साथ संगति का उल्लेख करने वाली आयतो में केवल पिता और पुत्र का उल्लेख है। यहुना १७: ३; १ यहुना १: ३
३. पवित्र आत्मा का उद्देश्य स्वयं पर ध्यान आकर्षित करना नहीं है, बल्कि यीशु के प्रति, और यीशु के माध्यम से, पिता के प्रति ध्यान आकर्षित करना है। नतीजा यह है कि वह सबसे आगे नहीं है। लेकिन, याद रखें, कार्य में अंतर का मतलब प्रकृति में गैर मौजूदगी नहीं है। १ करूं ११: ३
४. यहुना १४: २३-यीशु ने कहा कि पिता और पुत्र विश्वासियों में बसेंगे। कैसे? पवित्र आत्मा के द्वारा जिसे वे यीशु के स्थान पर भेजेंगे। यह यहुना १४ और १६ का एक मुख्य बिंदु है।
१. दूसरे शब्दों में, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के बीच संबंध ऐसा है कि पवित्र आत्मा पाया जाना हमारे अंदर पिता और पुत्र का निवास है। मर्क १३:११; मति १०: १९,२०; लूका २१: १४,१५
२. उनके बीच का संबंध इतना घनिष्ठ है कि पवित्र आत्मा को सही मायने में मसीह की आत्मा कहा जा सकता है (रोम ८: ९) और पिता की आत्मा (मति १०:२०)

१.. वह एक प्रेरक काम करने वाला है - खड़ा करने वाला, मददगार, शक्ति प्रधान करने वाला, सहायक हैI
१. वह हमारे लिए मसीहियत की सच्चाइयों को जीवित करने और हमें मसीह की छवि के अनुरूप बनाने के लिए आया है। १ करूं २:१२; रोम ८:२९
२. वह हम में कार्य करने आया है, और हमारे द्वारा सब जो मसीह ने क्रूस पर हमारे लिए किया था।
२. यह दिव्य व्यक्ति, पवित्र आत्मा, आपके साथ बात (कम्युनिकेट) करना चाहता है। २ करूं १३:१४
१. कम्यूनियन एक अस्पष्ट, अस्पष्ट शब्द नहीं है: KOINONIA = साझेदारी, संगति; सहयोगी, साथी।
हिस्सेदार, सहयोगी, साथी।
२. मरकुस १६: २० — जब शिष्य प्रचार करने के लिए आगे बढ़े, तो प्रभु (पवित्र आत्मा) ने उनके साथ चमत्कारी तरीके से काम किया,
३.यही परमेश्वर जो करना चाहता है, वह हम में उसके माध्यम से कर रहा है। फिल २:१३; इब्रा १३:२१
३. हमने यह नहीं कहा कि सब कुछ हम ही कह रहे है, लेकिन इन बिंदुओं पर विचार करें:
१. एहसास करें कि नया जन्म आप में कितना प्रभावी है - एक दिव्य व्यक्ति अब आप में रह सकता हैI
२. अपनी सफलता प्रभु के माध्यम से सुनिश्चित करें। फिल १: ६