परमेश्वर पुत्र

{-} ट्रिनिटी का सिद्धांत
{-} ट्रिनिटी के बारे में अधिक
{-}परमेश्वर पवित्र आत्मा
(-)परमेश्वर पुत्र
(-)क्या यीशु परमेश्वर है?
(-)यीशु परमेश्वर है

१.. हम परमेश्वर के साथ रिश्ते के लिए बनाए गए थे - जो कि ज्ञान पर आधारित है। आज के
सबसे बड़ा सवाल जो परमेश्वर के विरुद्ध किया जाता है, विशेष रूप से यीशु कौन है। यर्मि ९: २३,२४; मति २४: ४,५; २३,२४
२.. जब हम बाइबल का अध्ययन करते हैं, तो हम देखते हैं कि केवल एक ही परमेश्वर है, लेकिन तीन दिव्य व्यक्ति हैं - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा - ये सभी हैं वह सब कुछकरने में सक्षम है जो केवल परमेश्वर ही कर सकते हैं। इन सभी को ट्रिनिटी (त्रिगुण) के सिद्धांत के रूप में जाना जाता है।
१. केवल एक ही परमेश्वर है, लेकिन तीन दिव्य व्यक्ति हैं, एक में तीनI
२. "एक परमेश्वर के भीतर, तीन अनादि व्यक्तियों है, अर्थात् पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।" (जेम्स आर। व्हाइट)
३. हम देख रहे हैं कि बाइबल यीशु के बारे में क्या सिखाती है, जो ट्रिनिटी का दूसरा व्यक्ति है।
१. यह महत्वपूर्ण है कि हम बाइबल के यीशु को जानते हैं। यहुना १४: ६; ३: १८; ३६; १ यहुना २:२३
२. मसीहियत अद्वितीय है। यह यीशु पर आधारित है - वह कौन है, वह क्या है और उसने क्या किया है। यहुना १६: २७-२९; १७: ८
३.उनके काम और उनके शब्दों का मूल्य केवल इस वजह से है कि वह कौन हैं।
४. यीशु के बारे में गलतफहमी दो सामान्य श्रेणियों में आती है - जो लोग कहते हैं कि यीशु पिता हैं और जो यीशु को परमेश्वर नहीं कहते हैं, बल्कि एक साधारण मनुष्य मानते है।
१. यीशु पिता नहीं हैं। नए नियम में पचास से अधिक बार, पिता और पुत्र को एक ही आयात में अलग- अलग (२ करूं १:३; फिलि - २:११; १ यहुना २:२२) रूप में देखा जाता है। वे एक-दूसरे से बात करते हैं और एक-दूसरे के बारे में बोलते हैं (यहुना १७: १; मत्ती ३: १६,१७;
यहुना १६: २७,२८; १४:३१)।
२. यीशु को रचा नहीं गया है। बाइबल उसके बारे में बहुत स्पष्ट है। यीशु था, है, और हमेशा परमेश्वर रहेगा - शाश्वत (शुरुआत या अंत के बिना) अनंत (समय या स्थान से सीमित नहीं)। यहुना १: १-३

१. यीशु बेतलेहेम में रचा नहीं गया था। यीशु, त्रिगुण का दूसरा व्यक्ति, पुत्र, स्वर्ग और अनंत काल को छोड़कर बेथलहम में मानव शरीर में जन्म लेता है। मीका ५: २
२. कुछ ऐसा सोचते हैं क्योंकि यीशु को परमेश्वर का पुत्र कहा जाता है क्योंकि वह पिता परमेश्वर से कम है, ऐसा नहीं है।
१. बाइबल के समय में, सेमिटिक विचार में, "पुत्र का" शब्द का अर्थ अक्सर "वह होता है जो अपने पिता के गुणों का अधिकारी होता है" या "आदेश के"।
२. जब यीशु ने कहा कि वह परमेश्वर का पुत्र है, तो वह कह रहा था कि वह परमेश्वर था। ठीक यही यहूदियों ने इसे समझा जिन से यीशु बात क्र रहा था। यहुना ५:१८; १० : १०-३३
३. यीशु परमेश्वर का पुत्र नहीं है क्योंकि वह बेथलहम में पैदा हुआ था या क्योंकि वह किसी तरह परमेश्वर से कम है या क्योंकि परमेश्वर ने उसे बनाया है। वह पुत्र है क्योंकि वह परमेश्वर है।
३. जब पुत्र ने पृथ्वी और समय में प्रवेश किया, तो उसने शरीर ग्रहण किया - एक पूर्ण मानव स्वभाव (आत्मा, जान और शरीर)। यहुना १:१४
१. उसने न तो खुद को परमेश्वर दर्शाना बंद किया, न ही वह एक आदमी में बदल गया। वह अस्थायी रूप से मानव शरीर में रहने वाला परमेश्वर नहीं था।
२. वह था और अभी भी पूरी तरह से परमेश्वर और पूरी तरह से मनुष्य है। मत्ती १:२३; १ तिमो ३:१६
४. जब त्रिगुण के दूसरे व्यक्ति ने मानव शरीर ग्रहण किया, उसने:
१. अपने पूर्वनिर्मित गौरव को प्रदर्शित किया ताकि वह मनुष्यो के साथ रह सकें। यहुना १७: ५; मति १७: १-८
२. स्वेच्छा से खुद को सीमित कर लिया और पृथ्वी पर रहने के लिए अपनी दिव्य विशेषताओं का उपयोग नहीं किया।
३. एक मनुष्य का रूप धारण करके, खुद को सिमित कर लिया। इब्रा २: ९
५. त्रिगुण के दूसरे व्यक्ति, परमेश्वर पुत्र यीशु, ने मनुष्य शरीर ग्रहण किया ताकि वह हमारे पापों के लिए मर सके। मति २०: २७,२८; इब्रा २: ९,१४,१५
१. यीशु को परमेश्वर होना चाहिए ही था, ताकि हमारे पापों के लिए उसके बलिदान द्वारा हमारे पापों का मूल्य चुकाया जा सके, एक बार सभी के लिए I
२. परमेश्वर मर नहीं सकता, इसलिए, यीशु को मनुष्य बनना पड़ा ताकि वह हमारे पापों के लिए मर सके।
६. यीशु थे और पूरी तरह से परमेश्वर, और पूरी तरह से मनुष्य थे - एक व्यक्ति जिसमें दो प्रवृत्तियाँ हैं, मानव और परमात्मा। यही कारण है कि उसे भूख लगती थी, वह थकता था, और पाप के लिए ललचाया जा सकता थाI
मति ४: १,२; ०८:२४; यहुना ४: ६; ०८:५८; ३:१३
७. जब आप नए नियम में यीशु के बारे में एक आयत पढ़ते हैं, तो आपको यह निर्धारित करना होगा कि क्या आयत उसके मानव स्वभाव या उसकी दिव्य प्रकृति का उल्लेख कर रही है।
१. जब त्रिगुण के दूसरे व्यक्ति ने स्वेच्छा से स्वर्ग छोड़ दिया, तो उसने खुद को दीन बनाया, और पिता को प्रस्तुत करने की भूमिका निभाई। यहुना १४:२८
२. कार्य में अंतर का मतलब प्रकृति में अंतर् नहीं है। १ करूं ११: ३
८. इस पाठ में, हम बाइबल से और अधिक प्रमाण देखना चाहते हैं कि यीशु परमेश्वर है।
१. जब यीशु धरती पर था, उसने यह साबित करने के लिए बाइबिल (पुराना नियम) का इस्तेमाल किया कि वह कौन था। लूका २४: २५-२७; ४४-४८
२. चेलों ने बाइबल (पुराना नियम) का इस्तेमाल यह सत्यापित करने के लिए किया कि यीशु वह है जो उसने कहा कि वह था।
२ पतरस १: १६-२१

१. जब से पृथ्वी और मनुष्य का निर्माण का शुरू हुआ है, तब से परमेश्वर स्वयं को हमें प्रकट करता रहा हैं - उनकी योजना, उनका उद्देश्य, उनका व्यक्तित्व।
२. सृष्टि अपने आप में परमेश्वर और उसके अचम्भो को दर्शाती है। रोम १:२०; भजन १९: १
२. लेकिन, परमेश्वर का पूर्ण, सबसे पूर्ण प्रकाशन - उसकी योजना, उसका उद्देश्य, उसका व्यक्तित्व - यीशु मसीह है। २ तिमो १: ९,१०; यहुना १४: ९
२. इब्रा १: १-३-यीशु परमेश्वर का शब्द है, जो अदृश्य परमेश्वर का अभिव्यक्ति है।
१. यीशु सभी चीजों का रचनहारा और निर्वाहक है = वह परमेश्वर है।
२. चमक = प्रतिबिंब नहीं, मसीह परमेश्वर की चमक है।
३. चरित्र वर्णनकरता = सही प्रतिनिधित्व। करने वालाI
४. यीशु परमेश्वर के वास्तविक होने का सटीक प्रतिनिधित्व है।
३. क्लूस १: १५-१७-ये आयतें हमें सही बयान करती हैं कि यीशु कौन है।
१. आयत १५ – चित्र = EIKON = : किसी पदार्थ या किसी वस्तु का बहुत आवश्यक पदार्थ। यीशु परमेश्वर का बहुत पदार्थ या सार है।
२. पहिलौठा = का मतलब रचा गया नहीं है। यह सिर्फ बयान किए गए और आयतो का पूर्ण विरोधाभास होगा।
१. मार्ग मसीह की पूर्वता (श्रेष्ठता) पर जोर दे रहा है।
२. वह समस्त सृष्टि से पहले का है और उसने सारी सृष्टि का निर्माण किया। फ़र्स्टबोर्न का अर्थ होता है पूर्ववत्। (उदाहरण: प्रथम महिला)
३.उसने सभी चीजों और जीवों को बनाया। वह सभी चीजों से पहले है, वह अपने अस्तित्व के लिए किसी भी चीज या किसी पर निर्भर नहीं है। वह रचा नहीं गया है। प्रका ३: १४ - उत्पत्ति या निर्माण का वास्तविक कारण।
४. क्लू २: ९– "परमेश्वर की बहुत बड़ी दिव्यता, जो परमेश्वर को उसकी संपूर्णता में, परमेश्वर बनाती है, हमारे प्रभु में उसका स्थायी निवास है।" (बेंजामिन बी। वॉरफील्ड)
१. निवासक = रहती है = निरंतर क्रिया का संकेत देने वाली काल क्रिया। विचार यह है कि मसीह में दिव्यता की पूर्णता स्थायी रूप से रहती है।
२. यीशु था, और है, मनुष्य शरीर ग्रहण करने से वह परमेश्वर से कम नहीं हो गया हैI

१. उसके पास परमेश्वर की विशेषताएं हैं, परमेश्वर की विशेषताओं को प्रदर्शित करता है।
१. सर्वव्यापी (सर्व शक्तिमान) - इब्रा १: ३; १ करूं १५:२७; मत्ती २८:१८
२. सर्वज्ञता (सब जानने वाला) - यहुना १:४; २: २४,२५; मति ११:२७
३. सर्वव्यापी (एक वक़्त में हर जगह मौजूद) - मति १८:२०; २८:२०; यहुना ३:१३
४. अनन्त (बिना शुरुआत और, अंत) - यहुना १: १; यहुना १७: ५; क्लूस १:१७
५. अपरिवर्तनीय (अपरिवर्तनशील) - इब्रा १३: ८
२. वह ऐसे काम करता है जो केवल परमेश्वर कर सकता हैI
१. रचनहारा और सभी का निर्वाहक - यहुना १: ३,१०; क्लूस १: १६,१७; इब्रा १: ३,१०
२. पापों को क्षमा करने वाला - मार्क २: ५,७; यशा ४३:२५; अयूब १४: ४
३. न्यायाधीश - यहुना ५:२२; प्रेरितों १७:३१; २ तिमो ४: १
४. अनंन्त जीवन देता है - यहुना १०:२८; १७: २
४. उसने लोगों को उसकी उपासना करने की अनुमति दी। मत्ती २:११; ०९:१८; १४:३३; १५:२५; २०:२०; २८:१७; प्रका ५:१३
१. यीशु जानता था कि केवल परमेश्वर की उपासना की जानी चाहिए (मति ४:१०)। किसी और की उपासना करना पाप है। रोम १:२५; क्लूस २:१८
२. बाइबल में, जिन लोगों ने किसी और की उपासना करने की कोशिश की, उन्होंने मना किया गया। प्रेरितों के काम १०: २५,२६; १४: १४,१५; प्रका १९:१०; २२: ९
३. मति ४:१०; इब्रा १: ६ — पिता और पुत्र की उपासना एक सम्मान है = PROSKUNEO।
४. यहुना २०: २८ — जब यहुना ने यीशु को परमेश्वर (THEOS) कहा, तो यीशु ने उसे टोका नहीं, बल्कि उसे आशीषित किया। ध्यान दें, यह बाइबल पढ़ने के तरीके का एक महत्वपूर्ण बिंदु।
१. यहुना २०: १ -कुछ कहते हैं कि यह सिद्ध करता है कि यीशु परमेश्वर नहीं है। लेकिन, सिर्फ ग्यारह आयात नीचे (आयात २८), जिसमे यीशु एक व्यक्ति को उसे परमेश्वर कहने की अनुमति देता है।
२. आयात १७ — यीशु नास्तिक नहीं था। वह परमेश्वर था।

१. सृष्टि में उनकी भागीदारी। यहना १: १-३; उतपति १: १,२६
२. उनकी पूर्वसर्ग उपस्थिति। उतपति १८; २२; निर्गमन २३: २०-२३; यहोशू ५: १३-१५; न्याय १३; आदि।
३. यीशु उन्हें पुराने नियम में यहोवा के कई वचन भी दिखा सकता था जो मनुष्य शरीर ग्रहण करने से पहले मसीह के लिए थे।
१. यशा ४०: ३; मति ३: ३-यहना बपतिस्मा देने वाले ने प्रभु के लिए रास्ता तैयार किया (यहोवा - पुराने नियम में परमेश्वर के लिए ५३०० से अधिक बार इस्तेमाल किया गया) और परमेश्वर (एलोहिम - नाम परमेश्वर के लिए पुराने नियम में २,५०० से अधिक बार इस्तेमाल किया गया)।
२. निर्गमन ३१: १३,१७ — यहोवा सब्त के दिन का लेखक और परमेश्वर है। मत्ती १२: ८ में यीशु ने कहा कि वह सब्त के दिन का प्रभु है। आयत १४ – यहूदी इसके लिए उसे मारना चाहते थे।
३. यशा ४५: २१,२२- यहोवा ही एकमात्र उद्धारकर्ता है। यीशु (यहोवा बचाता है) को उद्धारकर्ता कहा जाता है। मति १: २१,२३; तीतु २:१३
४. यशा ४४ : ६; ४१: ४; ४८: १२ — यहोवा को पहला और आखिरी कहा जाता है। प्रका १: ८,१७; २२:१३
५. यशा ४५: २३-प्रत्येक घुटना यहोवा के सन्मुख झुकेगा, और प्रत्येक जीभ उसका इकरार करेगी। फिल २: ९-११
६. योएल २: ३२-जो यहोवा के नाम से पुकारा जाएगा, मुक्ति दिलाने वाला। रोम १०:१३
७. जकर्याह १२: १० — यहोवा कहता है कि वे मुझ पर नज़र रखेंगे, जिन्हें उन्होंने छेदा है। यीशु वह था जिसे उन्होंने छेदा था। प्रका १: ७
४. यहना २०: ३०,३१-लेकिन ये लिखित (मौजूद) हैं कि आप विश्वास कर सकते हैं कि यीशु ही मसीह है, अभिषिक्त जन, परमेश्वर का पुत्र है, वह जीवन है जिसमे विश्वाश के द्वारा आप हमेशा की जिंदगी पा सकते हैI

१.. यशा ७:१४ (मत्ती १:२३) — पुत्र हमारे साथ परमेश्वर-मनुष्य कहलाएगा।
२. यशा ९: ६ - पुत्र (त्रिगुण का दूसरा व्यक्ति) हमें दिया गया है।
१. अद्भुत - चमत्कारी = पूरी तरह से परमेश्वर, पूरी तरह से मनुष्य। १ तिमो ३:१६
२. परामर्शदाता - वह बोलने, मदद करने, मार्गदर्शन करने, सलाह देने के लिए आया है।
३. पराक्रमी परमेश्वर - एलोहिम = मजबूत; ब्रह्मांड का शासकI
४. परमपिता = अनंत काल का पिता; समय, ब्रहमांड, सृष्टि का रचनहारा।
५. शांति का राजकुमार = वह अपने दूसरे आगमन पर दुनिया में शांति लाएगा। लेकिन, क्रूस के माध्यम से, उसने परमेश्वर और मनुष्य के बीच शांति स्थापित की है। रोम ५: १,२;
२ करूं ५:१९; १ तिमो २: ५; क्लूस १:२०
३. पुत्र का मानव नाम यीशु है, जिसे मसीह भी कहा जाता है। मति १: २१,१६ यीशु का मतलब है कि यहोवा बचाता है। मसीह का अर्थ है अभिषेकितI
४. पिता ने एक नबी, एक महायाजक और एक राजा होने के लिए पुत्र का अभिषेक किया।
१. नबी के रूप में, पुत्र, यीशु, ने हमारे लिए पिता को प्रकट किया है। यहना १: १,१४,१८
२. याजक के रूप में, पुत्र, यीशु ने स्वयं के बलिदान के द्वारा हमारे पापों को हटा दिया है, और वह अब स्वर्ग में हमारे लिए स्थान त्यार करता है। इब्रा ७:२५; ४: १४–१६
३. राजा के रूप में, पुत्र, यीशु, एक दिन दाऊद के सिंहासन पर शासन करेगा, और यरूशलेम से बाहर पृथ्वी पर शासन करेगा (प्रका १९:१६; ११:१५)। और, अब, वह उन लोगों के जीवन में शासन कर रहा है जिन्होंने उसे अपने प्रभु के रूप में ग्रहण किया है। रोम १०: ९,१०
५. हमें पुत्र के बारे में इन सभी बातों को जानने और विश्वास करने का विशेषाधिकार है, और विश्वास के द्वारा, हमारे पास जीवन है।

१. परमेश्वर पिता, परमेश्वर पुत्र, और परमेश्वर पवित्र आत्मा, जो हमेशा से एक दूसरे के साथ पूर्ण प्रेम और घनिष्ठ संगति में मौजूद हैं, उन्होंने अपने लिए एक परिवार बनाने की योजना बनाई, जिसमे उन्होंने अपने पुत्र और पुत्रिया होने के लिए सब को हमेशा के लिए परमेश्वर के साथ संगति के लिए आमंत्रित किया हैI
२. इस शाश्वत योजना को समय काल में पूरा किया जा रहा है। परमेश्वर ने समय बनाया, हमें बनाया।
१. त्रिगुण के दूसरे व्यक्ति, पुत्र ने समय में प्रवेश करने के लिए स्वर्ग और अनंत काल को छोड़ा।
२. वह हमारे लिए, हमारे पापों के लिए मरने के लिए आया, ता कि हमारे लिए अनंत काल में परमपिता परमेश्वर और पवित्र आत्मा से जुड़ने का मार्ग खोल सके।
३. जब धरती पर पुत्र का काम पूरा हो गया, तो उसने समय छोड़ा और हमारे लिए जगह तैयार करने के लिए अनंत काल में वापस चला गया। यहुना १४: १-३; २ करूं ५: ८
४. २ करूं ४: १७,१८ — इन बातों का अध्ययन करने के लिए समय क्यों निकालें? हमें अपनी वास्तविक पहचान और नियति को देखने के लिए, और अनंन्त काल में बढ़ते हुए हमारा बोझ कम करने में मदद करेगाI