ट्रिनिटी के बारे में अधिक जानकारी

{-} ट्रिनिटी का सिद्धांत
{-} ट्रिनिटी के बारे में अधिक
{-}परमेश्वर पवित्र आत्मा
(-)परमेश्वर पुत्र
(-)क्या यीशु परमेश्वर है?
(-)यीशु परमेश्वर है

१.बहुत सारे कारण है, कि हमे परमेश्वर कौन है, और बाइबल की सही समझ होनी चाहिएI
१. सबसे पहले, गलत परमेश्वर का अनुसरण आपको नरक में ले जाएगा। और, आज, पहले से कहीं अधिक, इस बात पर हमला है कि परमेश्वर कौन है - विशेष रूप से यीशु कौन है।
२. दूसरा, हम परमेश्वर को जानने, परमेश्वर से प्रेम करने और उसका पुत्र या पुत्री बनने के लिए बनाए गए थे। परमेश्वर के बारे में हम जो कुछ भी जान और सीख सकते हैं वह हमारे जीवन को समृद्ध करेगा। २ पतरस १:२; २ करू १३:१४
२. आखिरी पाठ में, हमने ट्रिनिटी के सिद्धांत को देखना शुरू किया - यह तथ्य कि बाइबल में परमेश्वर ने स्वयं को एक परमेश्वर के रूप में स्पष्ट रूप से प्रकट किया है। और, उसने स्वयं को पिता,
पुत्र,पवित्र आत्मा के रूप में भी प्रकट किया हैI
३. हम इस पाठ में उस चर्चा को जारी रखना चाहते हैं।

१. परमेश्वर ने बाइबल में हमें खुद को प्रकट करने के लिए चुना है।
१. बाइबल यह साबित नहीं करती है कि परमेश्वर का अस्तित्व है, यह मानती और उसे प्रकट करती है। २. और परमेश्वर स्वयं को बाइबल में विभिन्न नामों से प्रकट करता हैI
यह नाम हमें उनके स्वभाव, उनके चरित्र के बारे में बताते हैं।
२. पुराने नियम में परमेश्वर के लिए सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला नाम यहोवा है। इसका अनुवाद सबसे अधिक बार किया गया है। १. यहोवा का मतलब है आत्म-विस्तार या अनन्त। नाम हमें बताता है कि परमवश्वर स्वतंत्र और शाश्वत है।
१ . हम अनंत काल के बारे में सोचते हैं जैसे यह एक लम्बा समय है। लेकिन, अनंत काल एक "अस्तित्व का तरीका है जिसमें घटनाओं और क्षणों की प्रगति शामिल नहीं है"। (जेम्स आर। व्हाइट)
२.परमेश्वर की कोई शुरुआत या अंत नहीं है, और वह अब वर्तमान में रहता है।
३. परमेश्वरअनंत है-किसी भी प्रकार की सीमा रहित (न तो समय और न ही स्थान)। भजन ९०:२; १०२:२५-२७; यर २३:२४; २ क्रोन ६:१८
२. वह स्वयं में विद्यमान है - किसी पर निर्भर नहींI
३. जैसा कि हमने पिछले पाठ में बताया है, परमेश्वर ने हमें अपने दायरे में आमंत्रित किया है। हमें पिता,पुत्र पवित्र आत्मा के साथ रिश्ते और संगति में आमंत्रित किया गया है। यहुना १७:२०-२३; १४:२०; १ यहुना १:३
३. निर्गमन ३:१४ - परमेश्‍वर ने मूसा को अपना नाम यहोवा बताया। इस नाम का अर्थ है कि मैं वह हूं जो मैं हूं,। यह उनकी अस्वस्थता पर जोर देता है।
४. यूहन्ना ४:२४-परमेश्वर एक आत्मा = अदृश्य, सारहीन और शक्तिशाली है।
१. क्योंकि हम ऐसे प्राणी हैं जो अंतरिक्ष से सीमित हैं, वर्तमान के समय में बंदित हैं, हम परमेश्वर को समझने की मानसिकता नहीं पा सकते I
२. इस बात की निश्चित सीमाएँ हैं कि हम अपने अस्तित्व में इस बिंदु पर परमेश्वर की कितनी समझ रख सकते हैं। १ करूं १३:१२
३. लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि हमें अध्ययन नहीं करना चाहिए। इसका मतलब है कि हमें वह समझने की कोशिश करने की ज़रूरत नहीं है जो हम नहीं समझ सकते। हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि परमेश्वर स्वयं के बारे में क्या कहता है।
५. अब, यह हमें एक बहुत ही दिलचस्प बिंदु पर लाता है। परमेश्वर अतुलनीय है - उसे मानव बुद्धि द्वारा नहीं समझा जा सकता है। फिर भी, परमेश्वर जानने योग्य है, और उसने हमें स्वयं को प्रकट करने के लिए चुना है ताकि हम उसे जान सकें। यर ९:२३,२४; यहुना १७:३
१. परमेश्वर ने हमें अपने पुत्र पुत्रिया होने के लिए चुना है, हम से बात करने के लिए, हमे आशीषित करने, और हमारे दुवारा उसकी महिमा को स्वीकार करने के लिए चुना है I
२. यशा ४०:२८-३१-स्वयं को परमेश्वर सर्वशक्तिमान घोषित कर (यशा ४०-४८), यह अच्छाई से भरपूर परमेश्वर जो हमें स्वयं की ओर बढ़ाता है।

१. बाइबल यह साबित नहीं करती है कि परमेश्वर त्रिगुण है, यह इसे मानती है। पर हम पर भी निर्भर है कि हम परमेश्वर को कैसे देखते है, जब हम बाइबल पड़ते हैI
१. ट्रिनिटी शब्द बाइबल में नहीं पाया गया है। यह दो लैटिन शब्दों (TRI और UNIS = तीन और एक) से आता है। लेकिन सिद्धांत या शिक्षा बाइबल में स्पष्ट रूप से पाई जाती है।
२. बाइबल में कोई भी आयात नहीं है जो कहती है कि परमेश्वर एक में तीन व्यक्ति हैं, फिर भी जब हम बाइबल (पुराना और नया नियम) पढ़ते हैं, तो हम स्पष्ट रूप से देखते हैं कि तीनो एक परमेश्वर है।
३. हालाँकि, जैसे ही हम बाइबल पढ़ते हैं, हम तीन व्यक्तियों को भी स्पष्ट रूप से देखते हैं जो परमेश्वर है - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।
४. और, तीनों परमेश्वर के गुणों, विशेषताओं, और क्षमताओं को प्रदर्शित करते हैं - सर्वव्यापीता, सर्वज्ञता, सर्वशक्तिमानता, पवित्रता, अनंत काल, सत्य। दूसरे शब्दों में, वे
सभी एक है और वह सब करते और कर सकते है जो परमेश्वर कर सकता हैI
२. पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा तीनो अलग-अलग परमेश्वर नहीं हो सकते क्योंकि बाइबल स्पष्ट रूप से बताती है कि केवल एक परमेश्वर है। व्यवस्था ६:४; गल ३:२०; १ तिमो २:५; यकू २:१९
३.यह भी नहीं कि परमेश्वर एक परमेश्वर है जो स्वयं को तीन तरह से व्यक्त करता है (कभी-कभी वह पिता की तरह कार्य करता है, कभी-कभी पुत्र, और कभी-कभी आत्मा) क्योंकि बाइबल में तीनों व्यक्ति
स्पष्ट रूप से एक दूसरे को देखते और एक दूसरे से बात करते है। यहुना १४:१६; १५:१६; १६:७-१६; १७:१-२६
४. बाइबल हमें परमेश्वर के बारे में जो बताती है, इसके आधार पर, हम ट्रिनिटी की एक परिभाषा बता सकते हैं।
१. " एक परमेश्वर के भीतर, तीन अनादि और सहवर्ती व्यक्ति विद्यमान हैं, अर्थात्, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।" (जेम्स आर। व्हाइट)
२. “परमेश्वर के भीतर तीन व्यक्ति हैं - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा; और ये तीनों एक ही परमेश्वर हैं, जो शक्ति में समान हैं।
(वेस्ट मिनिस्टर कांफ्रेंस ऑफ़ फेथ)
५. परमेश्वर का वर्णन करने के लिए भाषा का उपयोग करने में कठिनाई यह है कि यह अपर्याप्त है।
१. हमारे लिए, व्यक्ति का अर्थ है, जो सीमित है और दूसरे से अलग है। लेकिन, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा अलग-अलग व्यक्ति नहीं बल्कि एक हैI
२. ये परिभाषाएँ प्रत्येक व्यक्ति को दूसरों के बारे में जागरूक होने, उनसे बात करने, उनसे प्यार करने आदि के रूप में शब्द का उपयोग करती हैं।
६. जो लोग ट्रिनिटी के सिद्धांत को नकारते हैं।
१. वे कहते हैं कि पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा सभी एक ही व्यक्ति हैं जो अलग-अलग समय पर अलग-अलग कार्य करते हैं। या, वे कहते हैं कि पिता परमेश्वर हैं, लेकिन यीशु और पवित्र
आत्मा परमेश्वर नहीं हैI
२. लेकिन, वे सभी एक बड़ी गलती करते हैं। वे कुछ आयात बाइबल कि यह मान कर देखते है कि बाइबल त्रिगुण के सिधांत को नकारती है, लेकिन पूरी बाइबल नहीं देखतेI
३. परमेश्वर पिता, परमेश्वर पुत्र, और परमेश्वर पवित्र आत्मा उत्पत्ति से प्रकाशितवाक्य तक मिलते हैं।

१. बाइबल सृष्टि के आरम्भ से शुरू होती है - और हम ट्रिनिटी को काम करते देखते है।
१. परमेश्वर ने पृथ्वी और मनुष्य की रचना की (उत्पत्ति १:१; २:७)। पवित्र आत्मा ने पृथ्वी और मनुष्य को रचा (उत्पत्ति १:२; अय्यूब ३३:४)। पुत्र ने सभी चीजें बनाईं (यहुना १:३,१०; इब्रा १:२)।
२. कैसे संभव है? यह संयुक्त एक था - परमेश्वर पिता, परमेश्वर पुत्र और परमेश्वर पवित्र आत्मा जिसने सभी को बनायाI उतपति १:२६; व्यवस्था ६:४
२. ट्रिनिटी का सिद्धांत पुराने नियम में स्पष्ट रूप से प्रकट नहीं हुआ जैसे कि नए नियम है।
१. हालाँकि, हम बेतलेहेम में जनम लेने से पहले पुत्र को कई बार देख सकते हैं। उतपति १८:१-३३
२.पुत्र परमेश्वर, पुराने नियम और नये का दृश्य अभिव्यक्ति था और है।
३. यहोशू ५:१३-१५-इज़राइल द्वारा वादा किए गए देश में प्रवेश करने के बाद, यहोशू पहला शहर तैयार कर रहा था, जहाँ पर उन्हें युद्ध करना था। वहाँ, वह पुत्र, पूर्व यीशु से मिले।
१. यीशु ने स्वयं को प्रभु की सेना = सेनापति-सेनापति के मेजबान के रूप में प्रकट किया।
२. उसकी पहचान के लिए इन सुरागों को देखें। परमेश्वर = यहोवा = परमेश्वर।
१. यहोशूआ उसे परमेश्वर कहता है, उसकी उपासना करता है, और वह उसे स्वीकार करता है।
२.परमेश्वर ने इज़राइल को जो सबसे बड़ी आज्ञा दी थी वह यह थी: किसी की भी पूजा न करो, किसी की भी, सिवाए मेरे।
३. यहोशूआ को बताया गया था कि वह मैदान बहुत पवित्र था। निर्गमन ३:५
३. यह प्रभु की सेना का सेनापति यीशु, पुत्र है। प्रका १९:११-१४
४. यहोशूआ ने परमेश्वर, पुत्र (सहस्वामित्व, सहस्राब्दी) को देखा। यूहन्ना १:२८; निर्गम ३३:२०
४. पुराने नियम में कई जगहों पर हम परमेश्वर और पवित्र आत्मा को एक ही मार्ग में वर्णित देखते हैं। निर्गमन ३१: १-३; २ करूं २०: १४-१८; भजन ५१:११
५. जब हम नए नियम पर आते हैं, तो सुसमाचार में, हम पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा का एक साथ उल्लेख पाते हैं। लूका १: २६-३८ ; ३: २१,२२
६. पहले मसीहियों ने ट्रिनिटी की अवधारणा पर कभी सवाल नहीं उठाया होगा। उन्होंने पिता को स्वर्ग से बोलते सुना। उन्होंने तीन साल तक बेटे को देखा और उसके साथ चले। पिन्तेकुस्त के दिन वे पवित्र आत्मा पाते है।
७. कथानकों में, हम त्रिगुण परमेश्वर की स्वीकृति देखते हैं जो एक व्यक्ति में तीन व्यक्ति हैं। रोम १४: १७,१८; १५:१६; १ करूं २: २-५; १ करूं ६: ९-११; २ करूं १: २१,२२; २ करूं १३:१४;
इफ २:१८; ३: १४-१७; इफ ४: ४-७; १ थिस १: ३-५; २ थिस्स २: १३,१४
८. प्रकाशितवाक्य में भी हम यही देखते हैं। प्रका १: १,२; ४,५; २:११; ११-१५; २२: १-४; १६,१७

१. तीन व्यक्तित्व के साथ एक ही परमेश्वर हैI
२. जब हम बाइबल का अध्ययन करते हैं, तो हम पाते हैं कि परमेश्वर ने उद्धार के कार्य को विभाजित किया है।
२. पिता ने उद्धार की योजना बनाई और पुत्र को भेजा। इफ १: ३-५; रोम ८:२९; प्रका १३: ८
२. पुत्र ने पृथ्वी पर आकर उद्धार का काम किया। इब्रा २:१४; फिल २: ७,८; याहूना १०: १७,१८
३. पिता और पुत्र ने उद्धार के परिणामों को लागू करने के लिए आत्मा को भेजा। यहुना १४:२६; १५:२६; रोम ८:१०,११; १ करूं २:१२
३. ट्रिनिटी पर विचार करते समय याद रखने के लिए यहां एक महत्वपूर्ण बिंदु है। काम करने में अंतर का मतलब प्रकृति में अंतर नहीं है।
१. क्योंकि पिता ने भेजा पुत्र को इसका अर्थ यह नहीं है कि पुत्र पिता से कम है।
२. क्योंकि पिता और पुत्र ने पवित्र आत्मा को भेजा है इसका मतलब यह नहीं है कि वह पिता और पुत्र से कम है।
३. प्रकृति और कार्य दो अलग-अलग चीजें हैं। और, बाइबल बहुत स्पष्ट है कि पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के उद्धार में अलग-अलग कार्य हैं, लेकिन वे सभी एक ही प्रकृति के हैं। वे सभी पूरी तरह से परमेश्वर हैं।
४. और तीनों के बीच एक एकता है क्योंकि वे अपने विभिन्न कार्य करते हैं।
यहुना १४:१०; १६:१३, २ करूं ५:१९
४. जो कहते हैं कि ट्रिनिटी नहीं है, आम तौर पर कहते हैं कि यीशु सम्पूर्ण इंसान है, न कि परमेश्वर, और यह कि पवित्र आत्मा बी एक बल हैI
१. ट्रिनिटी का ठीक से अध्ययन करने के लिए, हमें यीशु और पवित्र आत्मा के दिव्यता पर विचार करना चाहिए।
२. हम अगले पाठ में इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।

१. ट्रिनिटी का सिद्धांत एक रहस्य है। यह समझने की कोशिश करना आसान नहीं है क्योंकि यह समझ से परे है।
१. इसे समझाने का प्रयास इसके साथ अन्याय है - यानी, कोई एक ही समय में एक पिता, एक बेटा और एक भाई हो सकता है। ट्रिनिटी को मनुष्य बुद्धि से समझा नहीं जा सकता है।
२. हम सभी यह देख सकते हैं कि ट्रिनिटी का सिद्धांत निश्चित रूप से कहा गया है
बाइबिल, इसे स्वीकार करती हैं, और परमेश्वर की प्रशंसा करती हैं,
रोम ११: ३३-३६; १ तिमो १:१८
२. परमेश्वर के स्वभाव का अध्ययन करने का एक कारण हमारे अंदर परमेश्वर के लिए प्यार को बढ़ाना है।
१. भजन परमेश्वर की महिमा करने के लिए बार-बार बोलते हैं। भजन ३४: ३; ३५:२७; ४०: १६,१७; ६९:३०; ७०: ४
२. भजन ४०: १७-फिर भी प्रभु ने सोचा और मेरे लिए योजना बनाई।
३. भजन ४०: १७-फिर भी प्रभु अभी मेरे बारे में सोच रहा है।
३. जैसा कि हम बाइबल को हमारे मन में परमेश्वर के प्रति प्यार को बढ़ाने की अनुमति देते हैं, हम कृतज्ञ दिलों के साथ आनन्दित हो सकते हैं, कि हमें इस अद्भुत पिता - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के साथ संगति के लिए आमंत्रित किया गया है।