परीक्षा और कठिनाईयों के बारे में अधिक

(-)मसीही दुःख झेलेंगे?
(-)अधिक पीड़ा के बारे में
(-)परीक्षा और कठिनाइयां
(-)परीक्षा और कठिनाईओं के बारे में अधिक
(-)परमेश्वर का अनुशासन
(-)परमेश्वर संप्रभु है
(-)अयूब के बारे में क्या?
(-)अयूब के बारे में अधिक

१. हमें पूरी तरह से परमेश्वर में चलने के लिए उनके चरित्र का सही ज्ञान होना चाहिए। भजन ९:१०
१. हमारा उदेश्य है: परमेश्वर अच्छा है और अच्छे से भाव अच्छा है।
ए। लेकिन, यह कुछ स्पष्ट विरोधाभासों को सामने लाता है।
ख। पुराने नियम, और नए नियम के परमेश्वर के बीच अंतर क्यों? अय्यूब के बारे में क्या? दुख आदि का क्या? हम इसे कैसे सुलझाते हैं?
३. यीशु मसीह के साथ शुरू करे, परमेश्वर का पूरा प्रकाशन। यहुना १४: ९; इब्रा १: १-३
ए। उन्होंने कहा कि परमेश्वर अच्छे हैं, और अच्छे को यीशु द्वारा किए गए कार्यो के रूप में परिभाषित किया गया है। मति १९:१७; प्रेरितों १०:३८
ख। सभी विरोधाभासों के साथ सामंजस्य स्थापित करना चाहिए जो यीशु हमें परमेश्वर के बारे में दिखाता है।
४. पिछले कुछ पाठों से, ऐसा लग सकता है कि हम थोड़ा पीछे हट गए है।
ए। परमेश्वर प्रेम है, परमेश्वर अच्छा है, परमेश्वर एक पुरस्कृत है, आदि जैसे पाठ करने के बजाय हम कष्ट, परीक्षा, और कठिनाइयों के बारे में बात कर रहे हैं।
ख। इसका कारण यह है कि जब तक हम इसे अपने दिमाग में मजबूती से स्थापित नहीं कर लेते हैं, कि ये चीजें परमेश्वर की ओर से नहीं आती हैं, तब हम इस बारे में बात करेंगे कि परमेश्वर कैसे प्रेम करते हैं और परमेश्वर अच्छे हैं, तो आप में से बहुत से लोग सुनेंगे:
१. परमेश्वर प्रेम है, लेकिन क्या वह आपको सिखाने के लिए आप पर कैंसर को आने कि अनुमति दे सकता है।
२. आखिरकार, वह प्रभु परमेश्वर है, और वह जो चाहे कर सकता है।
५. आखिरी पाठ में, हमने परीक्षा और कठिनाईओं के बारे में बात की, और इस सप्ताह जारी रखना चाहते हैं। लेकिन, पिछले हफ्ते के कुछ प्रमुख बिंदुओं की समीक्षा करें।
ए। परीक्षा और कठिनाइयां परमेश्वर से नहीं आती हैं - वे पाप के कारण पृथ्वी में हैं।
ख। शैतान सभी परीक्षाओं और कठिनाइओं के पीछे है, क्योंकि वे सभी पाप और उसके राज्य के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष उत्पाद हैं।
सी। परीक्षा हमारे विश्वास की परीक्षा लेती हैं।
१. परमेश्‍वर ने बाइबल में हमसे अपने प्रेम और हमारी देखभाल के बारे में विशेष वादे किए हैं, और परीक्षा उन वादों को असत्य दिखाती हैं।
२. बुरी परिस्थितियाँ परमेश्वर कि ओर से परीक्षा नहीं हैं, परिस्थिति में उनका वचन हमारी परीक्षा है। क्या आप विश्वास करेंगे कि जो कुछ आप देखते हैं उसके बावजूद परमेश्वर क्या कहते हैं?
घ। परीक्षा और मुश्कलें (जीवन की कठिनाइयाँ) हमें पूर्ण करने, शुद्ध करने या अनुशासित करने के लिए परमेश्वर का उपकरण नहीं हैं।
१. परमेश्वर हमें शुद्ध करता है, हमें पवित्र करता है, आदि उसके वचन और उसकी पवित्र आत्मा के साथ।
२. परमेश्वर अपने वचन और आत्मा के द्वारा हम पर कार्य करता है, परिस्थितियों के द्वारा हम पर नहीं।
३. कहि भी बाइबल परीक्षा और कठिनाइयों को हमे सिखाने वाला नहीं कहती है।
४. पवित्र आत्मा और वचन को हमे सिखाने वाला कहा जाता हैं।
५. २ तिमो ३: १०-१७; इफ ४: ११,१२; (यहुना १५: २,३; इफ ५:२६; इब्रा ९:१४; १ यहुना १: ९ = शब्द एक ही है = शुद्ध)
इ। परमेश्वर ने हम प्रत्येक में एक आंतरिक कार्य शुरू किया है; वह उस काम को पूरा करने के लिए बाहरी चीजों का उपयोग नहीं करता है। गला ३: ३

१. बाइबल शैतान को परताने वाले के नाम से पुकारती है, और उसकी पहिचान इस रूप में करती है जो उत्पीड़न , दुःख, मुसीबते, कठिनाइयँ लाता है। मति ४: १-३; १ थिस्स ३: १-५ मति १३: १९; २१; मरकुस ४: १५; १७; १ पतरस ४:१२; ५: ८,९
२. आपकी परीक्षा शैतान का सीधा हमला है या नहीं, या सिर्फ एक पाप शापित धरती में रहने का परिणाम है, शैतान आपके दिमाग में हर मुश्किल वक्त में नकारात्मक विचारो, संदेह और भय के साथ काम करता है। इफ ६:११
३. यीशु ने प्र्ताये जाने को बुराई कहा। मति ६:१३ (जैसा कि इसी तरह याकूब १:१२ में )
ए। यह पिता की इच्छा है = कि हमें परीक्षा के आसपास या इससे बाहर ले जाया जाए।
ख। एडम क्लार्क की टिप्पणी में कहा गया है कि प्रतावा = व्यथा परीक्षा (के माध्यम से बेध करने के लिए आता है)
१. इस शब्द में न केवल शैतान के हिंसक हमले का अर्थ है, बल्कि व्यथात्मक परिस्थितिया भी है।
२. हमें नहीं = एक आधिपत्य का नेतृत्व: परमेश्वर को करने के लिए कहा जाता है जो वह केवल अनुमति दे।
४. हमें कहा गया है कि न कहे परीक्षा परमेश्वर कि ओर से आती है, क्योंकि वह लोगों को बुराई से नहीं परताता। याकूब १:१३
ए। शास्त्रों ने केवल परीक्षा, क्लेश, पीड़ा, आदि प्रलोभनों और / या शैतानी गतिविधि का हवाला दिया; इसका मतलब है कि वे दुष्ट हैं।
ख। यदि परमेश्वर इन गतिविधियों में से किसी के पीछे है, तो वह अपने लोगों के खिलाफ बुराई का उपयोग कर रहा है।
सी। कुछ कहते हैं कि दो तरह कि परीक्षा या प्रलोभन हैं: वे जो हमें शुद्ध करने के लिए परमेश्वर से, हमें सिखाती हैं, आदि और जो हमें पाप करने के लिए शैतान से आती हैं।
१. इस विचार का समर्थन करने के लिए कोई शास्त्र नहीं हैं।
२. सभी प्रकार कि परीक्षा हमें अविश्वास के पाप की ओर ले जा सकती हैं।
५. कुछ लोग कहते हैं कि परमेश्वर हमारे जीवन में इन चीजों को एक उद्देश्य के लिए अनुमति देता है।
ए। क्या वह लोगों को नरक में जाने की अनुमति देता है - इसका मतलब यह नहीं है कि यह उसकी इच्छा है या वह किसी भी तरह से सहमति देता है।
ख। अक्सर, जब शब्द अनुमति का उपयोग किया जाता है, तो इसका मतलब सहमति है।
१. क्या इसका मतलब नहीं है कि परमेश्वर शैतानी गतिविधि में एक सहमति भागीदार है।
२. इससे परमेश्वर एक माफिया मालिक बन जाएगा जो शैतान को अपने हिट मैन के रूप में इस्तेमाल करता है।
६. बाइबल सिखाती है कि परमेश्‍वर आराम देता है और हमें परीक्षाओं, प्रलोभनों, ज़ुल्मों आदि से बचाता है। भजन ३४: १७; १९; १ करूं १०:१३; २ करूं १: ३; २ तिमो ३:११; २ पतरस २: ९
७. यदि परमेश्वर इन चीज़ों को हम पर या हमारे आस पास भेजता है / ता कि हमे इन से छुड़ा सके, तो यह एक विभाजित घर हैI मति १२: २४-२६

१.नहीं! यदि उन्होंने हमें धैर्यवान बनाना है, तो हम सभी धैर्यवान होते क्योंकि हम सभी परीक्षा में पड़ते हैं।
२. परीक्षा हमें धैर्यवान नहीं बनाती हैं, यह हमें धैर्य रखने का अवसर देती हैं।
ए। धैर्य परीक्षा से नहीं आता है, धैर्य परमेश्वर से आता है!
ख। धैर्य पुनर्निर्मित मनुष्य आत्मा का एक फल है। गला ५:२२; क्लू १:११
सी। परीक्षा उसी तरह से काम करती हैं जिस तरह से व्यायाम मांसपेशियों पर काम करता है।
घ। व्यायाम मांसपेशियों का निर्माण नहीं करता है, यह आपको इसका उपयोग करने का मौका देता है, और उपयोग के माध्यम से इसे मजबूत करता है।
१. आपके विश्वास कि परीक्षा धीरज, दृढ़ता और धैर्य लाती है। (AMP)
२. आपके विश्वास कि परीक्षण आपके सहन करने की शक्ति कि क्षमता को बढ़ाती है। (Beck)
३. धैर्य वास्तव में परीक्षाओं में हमारी प्रतिक्रिया माना जाता है, न कि कठिनाईओं कि प्रस्तिथियों का परिणाम। रोम १२:१२; २ थिस्स १: ४; १ पतरस २:२०
ए। धीरज धरने का मतलब है, मुश्किल से कोई फर्क नहीं पड़ता।
ख। धैर्य का अनुवाद किया जा सकता है: धीरज; ब्रेकिंग पॉइंट पास करना और ब्रेक न करना; आगे बढ़ने की शक्ति।
सी। धैर्य वही रहने की क्षमता है, निरंतर, लगातार, कोई फर्क नहीं पड़ता कि परिस्थितियां क्या हैं।
घ। हमारे अंदर वह क्षमता है क्योंकि हम फिर से पैदा हुए हैं।
४. याकूब १:१२ हमें बताता है कि वह आदमी धन्य है जो परीक्षा में धैर्य रखता है।
ए। धीरज; स्थिर रहना है; धैर्य छोड़ना नहीं है।
ख। परीक्षाओं में हमे ऐसा ही करने को कहा गया है = इनपर विजय पाने से अधिक।
सी। यदि परमेश्वर हमें सही करने या बदलने के लिए परीक्षा भेजते हैं, तो ये आयतें इस विचार का खंडन करती हैं।
५. ये आयते यह स्पष्ट करती हैं कि यह परीक्षआएं नहीं है जो हमें पूर्ण बनाती है, बल्कि हमारी प्रतिक्रिया, परीक्षा में परमेश्वर के वचन पर आधारित है। याकूब १: ४
ए। आपके धैर्य को आप को मजबूत और अधिक मजबूत बनाने दे। (Worell)
ख। सुनिश्चित करें कि आपका धीरज आपको बिना असफल हुए सभी तरह से इस दिशा में ले जाता है ताकि आप संपूर्ण, पूर्ण, अभावों से रहित हो सकें। (खुशखबरी)
६. यही विचार रोम ५: ३,४ में पाया जाता है
ए। हम जानते हैं कि दुख हमारी सहन करने की शक्ति को बढ़ाता है, और यदि हम सहते हैं, तो हम अपनी ताकत साबित करते हैं, और अगर हम इसमें अपनी ताकत साबित करते हैं, ओर हमारे पास उम्मीद है। (Beck)
ख। सहनशीलता धीरज को जन्म देती है और धीरज हमारे विश्वास का प्रमाण देता है, और एक सिद्ध विश्वास आशा के लिए आधार देता है। (Knox)
७. हमारे पास यह विचार है कि परीक्षा हमें अच्छा करती हैं, और यही कारण है कि परमेश्वर उन्हें अनुमति देता है।
ए। यह स्वचालित रूप से ऐसा नहीं है - यीशु ने स्वयं ऐसा कहा। मति ७: २४-२७
१. एक ही तूफान के दो अलग-अलग प्रभाव है।
२. तूफान में आपकी प्रतिक्रिया यह निर्धारित करती है कि यह आपको कैसे प्रभावित करता है।
ख। मरकु ४: ३७-४० शिष्यों को एक तूफान का सामना करना पड़ा जिसने धैर्य या उनके विश्वास को मजबूत नहीं किया - तूफान ने उनका विश्वास ही ले लिया।
सी। तूफान वृद्धि का कारण नहीं बनते हैं, और तूफान बहुत नुकसान कर सकते हैं।
घ। यीशु ने हमें परमेश्वर दिखाया - वह असहाय को नुकसान नहीं पहुंचाएगा। मति १२:२०
८. यह सब परमेश्वर की महानता और उनकी अच्छाई को दर्शाता है।
ए। परीक्षा बस यहीं पर मौजूद हैं - कारण पाप में जीवन, शैतान द्वारा हावी श्रापित पृथ्वी है।
ख। इन बातों को याद रखें:
१. शैतान को यहां तब तक रहने का अधिकार है जब तक उसका समय खत्म नहीं हो जाता। लूका ४: ६; मत्ती ८:२९; प्रका १२:१२
२. यह जीवन अनंत काल की दृष्टि से केवल एक छोटा धब्बा है। २ करूं ४:१७
३. इन तमाम कठिनाइयों के बीच परमेश्वर ने हमारे लिए पूरा प्रावधान किया है। रोम ८: ३५-३७; यहुना १६:३३
सी। परमेश्वर वास्तव में इन सभी चीजों का उपयोग अपने या हमारे लाभ के लिए कर सकता है।
१. परीक्षाये यह दिखाने का अवसर प्रदान करती हैं कि हम नई सृष्टि रूप में कैसे मनुष्य बने हैं।
२. विश्वास उपयोग के माध्यम से मजबूत होता है और परीक्षा हमें अपने विश्वास का उपयोग करने का मौका देती हैं।
घ। एक मुक्केबाज यह नहीं जान सकता कि वह कितना अच्छा है या उसका प्रशिक्षण कितना प्रभावी है जब तक वह रिंग में कदम नहीं रखता।
इ। रिंग में कदम रखते ही वह पूरी तरह से प्रशिक्षित हो जाता है; मैच उसे प्रशिक्षित नहीं करता है, यह उसके प्रशिक्षण के परिणामों को दर्शाता है।

१. पत्र के संदर्भ से, यह स्पष्ट है कि ये लोग जिन परीक्षाओं का सामना कर रहे थे वे सताव था। २: १८-२३; ३: ३-१७ ; ४: ४; १२-१६; ५: ८-१०
ए। परमेश्वर की ओर से नहीं हो सकता - कि वह अपने ही राज्य के खिलाफ लड़े।
ख। शैतान को ५: ८,९ में उनके दुखों के स्रोत के रूप में पहचाना जाता है।
सी। हाँ, लेकिन शैतान परमेश्वर का शैतान है। क्या यह मतलब है आपका:
१. क्या शैतान पवित्र आत्मा की तुलना में अधिक प्रभावी है इसलिए परमेश्वर वास्तव में कठिन मामलों पर उसका उपयोग करता है?
2. या, वह मसीहियों की तुलना में अधिक विश्वसनीय और आज्ञाकारी है, इसलिए परमेश्वर अपना काम करवाने के लिए शैतान को कहते हैं?
२. १: ७ के अनुसार, ये लोग इन दुखो,सताव को भुगत रहे हैं ताकि वे मसीह के दिन वफादार रहें।
ए। वे दुःख उठा रहे हैं ताकि वे मसीह के प्रति वफादार रहे।
ख। वे ज़ुल्म के आगे हार मान सकते थे।
सी। दुख समाप्त हो जाएगा, लेकिन वे परमेश्वर की ओर से प्रशंसा नहीं पाएंगे, क्योंकि उन्होंने दौड़ अभी पूरी नहीं हुई थी, या उनका काम अभी पूरा नहीं हुआ था।
३. लोग अक्सर यहां इस्तेमाल सोने और आग की सादृश्य को गलत समझते हैं।
ए। यह हमारा विश्वास है कि सोना ज्यादा कीमती है, न कि परीक्षा।
ख। सादृश्य यह नहीं है कि हमारे विश्वास को आग में सोने की तरह ढाला और परिष्कृत किया जाता है।
सी। सादृश्य यह है कि यहां तक ​​कि सबसे शुद्ध, सबसे परिष्कृत सोना हमारे विश्वास के स्थायित्व या मूल्य के बराबर नहीं है।
४. उग्र परीक्षा हमें परिपूर्ण नहीं करती हैं; वे हमें यह दिखाने का एक और मौका देती हैं कि परमेश्वर की शक्ति हममें कितनी अच्छी तरह काम करती है।
ए। यदि आग की भट्टी में होना हमें पूर्ण करता है, तो शद्रक, मेशक और अबदनेगो आग से बाहर क्यों आए? दानि ३:२७
ख। यशा ४३: २ में परमेश्वर ने हमसे वादा क्यों किया कि हम आग ओर पानी से सुरक्षित गुजरेंगे, अगर हम ऐसी चीजों को परमेश्वर के उपकरणों के रूप में प्रस्तुत कर रहे हैं तो ?
५. १ पतरस ५:१० का क्या मतलब है?
ए। पत्र के संदर्भ में दुःख = सताए जाने और दुष्ट संसार में धर्मपूर्ण जीने की कीमत।
ख। यह चीजें इस दुनिया में जीवन का हिस्सा हैं क्योंकि एक दुश्मन हमारे खिलाफ है - लेकिन परमेश्वर हमें इन दुखो में भी जीत देता है। २ करूं ४:१७
१. हां, आपको थोड़े समय के लिए दुःख सताएगा। लेकिन उसके बाद, परमेश्वर सब कुछ सही कर देगा। वह आपको मजबूत बनाएगा। वह आपका समर्थन करेगा और आपको गिरने से बचाएगा। वह परमेश्वर है जो सभी पर कृपया करता है। (Deaf)
२. और जब आप इन कष्टों को बहुत कम समय के लिए सहन करते हैं, तो सारे अनुग्रह परमेश्वर, जिसने आपको मसीह के माध्यम से अपने अनन्त वैभव को साझा करने के लिए बुलाया है, स्वयं आपको संपूर्ण और सुरक्षित और मजबूत बना देगा। (philips)
३. और परमेश्वर, सभी अनुग्रह का दाता, जिन्होंने हमें आनंद लेने के लिए बुलाया है, थोड़ी पीड़ा के बाद, मसीह यीशु में उनकी शाश्वत महिमा, आपको स्वयं को निपुणता, दृढ़ता और शक्ति प्रदान करेगी। (Knox)

१. क्या परमेश्वर उन्हें इस अर्थ में अनुमति देता है कि लोग पाप करे और वह नरक में उन्हें जाने दे: वह मनुष्य स्वतंत्रता को अपनी मर्जी मुताबिक चलने की अनुमति दे रहा है।
२. लेकिन यहां तक कि परीक्षाओं और कठिनाईओं में भी हम परमेश्वर की अच्छाई को देखते हैं।
ए। वह हमारे खिलाफ काम करने के बजाय इन कठिनाइयों को दूर करने का कारण बनना चाहता है।
ख। वह हमारे आस पास सभी कठिनाइयों में हमे रस्ता दिखाना चाहता है।
सी। वह हमें आराम देना चाहता है और हमें मुसीबतो से छुटकारा दिलाता है!
४. परमेश्वर अच्छा है, और अच्छे से भाव अच्छा है !!!