होली ट्रिनिटी के आधार

{-} ट्रिनिटी का सिद्धांत
{-} ट्रिनिटी के बारे में अधिक
{-}परमेश्वर पवित्र आत्मा
(-)परमेश्वर पुत्र
(-)क्या यीशु परमेश्वर है?
(-)यीशु परमेश्वर है

१.ऐसा अध्ययन थोड़ा अप्रासंगिक लग सकता है। हम सभी को वास्तविक समस्याएं हैं जिनके लिए वास्तविक समाधान की आवश्यकता है।
१. यह विषय हमारी समस्याओं से संबंधित नहीं है - शारीरिक, वित्तीय, मानसिक, वैवाहिक।
२. धर्मशास्त्रियों को परमेश्वर के स्वरूप के बारे में जानने की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन रोजमर्रा के लोगों को नहीं। हालांकि, सच्चाई से कुछ भी दूर नहीं हैI

२. कुछ प्रमुख कारण हैं, कि हमें परमेश्वर की सही समझ की आवश्यकता क्यों है।
१. आप परमेश्वर को जानने के लिए, परमेश्वर से प्रेम करने के लिए और उनके पुत्र या पुत्री होने के लिए बनाए गए थे। परमेश्वर कौन है, इसकी सटीक जानकारी के बिना, आप अपने बनाए जाने के उद्देश्य को पूरा नहीं कर सकतेI
२.परमेश्वर के बारे में हम जो कुछ भी सीखते हैं, जानते हैं, वह हमारे जीवन को समृद्ध करेगा।
३ .परमेश्वर कौन खतरनाक है इसका गलत ज्ञान। गलत परमेश्वर का अनुसरण आपको नरक में ले जाएगा।

३. आज, पहले से कहीं ज्यादा, एक हमला है कि परमेश्वर कौन है - विशेष रूप से यीशु कौन है।
१. यह तब तक जारी रहेगा जैसी जैसी हम उस समय की ओर बढ़ेंगे जब दुनिया झूठे मसीह, एंटीक्रिस्ट को स्वीकार कर लेगी और एक झूठी मसीहीयत को पूरे विश्व का एक धर्म मानकर लोग उस पर चलने लग पड़ेंगे I
२. हमें वास्तविक को असत्य से अलग करने में सक्षम होना चाहिए।

४. यह महत्वपूर्ण है कि हम बाइबल से परमेश्वर के बारे में जानकारी ले, क्योंकि बाइबल के माध्यम से परमेश्वर ने हमें स्वयं को प्रकट करने के लिए चुना है।
१. बहुत से लोगों के पास परमेश्वर के बारे में विचार हैं, लेकिन वे व्यक्तिपरक हैं = मेरे लिए क्या मतलब है (मेरी भावनाओं और विचारों से बाहर निकलकर व्यक्तिगत भावनाओं या पूर्वाग्रहों से स्वतंत्र उद्देश्य तथ्यों के विपरीत)।
२. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप परमेश्वर के बारे में कैसा महसूस करते हैं। जो मायने रखता है, वह यह है कि परमेश्वर कहता है वह है चाहे आप विश्वास करें या नाI
३. परमेश्वर का सटीक ज्ञान हमेशा महत्वपूर्ण रहा है, लेकिन शायद अब पहले से कहीं अधिक।

५. इस पाठ में, हम विशेष रूप से ट्रिनिटी के सिद्धांत (जीआर = निर्देश, शिक्षण) से जानेंगे - यह तथ्य कि बाइबल में परमेश्वर ने स्पष्ट रूप से स्वयं को एक परमेश्वर के रूप में प्रकट किया है, और उन्होंने स्पष्ट रूप से स्वयं को पिता, पुत्र, पवित्र आत्मा के रूप में भी प्रकट किया है I

६. यह धर्मशास्त्रीय मम्बो-जंबो नहीं है। यह व्यावहारिक मसीहीयत धर्म है। विचार करें:
१. जैसा कि हमने कहा, यह पहले से ज्यादा महत्वपूर्ण है की परमेश्वर के बारे में झूठ से बचा जाए I
२. जितना अधिक आप पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के बारे में के बारे में जानेंगे उतनी ही परमेश्वर के साथ आपकी, संगति मधुर होगी, और आपकी मसीहीयत और ज्यादा प्रभावी होगी।
१ . 1 कुरिन्थियों - अध्याय 13- 14 - हम परमेश्वर पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के साथ रिश्ते और संगति के लिए बुलाए गए हैं I
१ . मत्ती - अध्याय 2- 28-18- हमें मसीहीयो को अपना जीवन पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम में जीना हैI

७. हमारा लक्ष्य ट्रिनिटी का एक संपूर्ण अध्ययन नहीं करना है - जिसमें महीनों लगेंगे।
१. हमारा लक्ष्य आपको इस महत्वपूर्ण बाइबिल विषय की एक बुनियादी समझ देना है।
२. हमारा लक्ष्य आपको कोई गोला-बारूद देना नहीं है जिससे आप बाहर जाकर दूसरे मसीही संगठनों को बदलें जो पिता पुत्र और पवित्र आत्मा मैं विश्वास नहीं करते I
३. हमारा लक्ष्य आपको यह विश्वास दिलाने में मदद करना है कि आप क्या और क्यों मानते हैं।
४. हमारा लक्ष्य परमेश्वर के ज्ञान को बढ़ाकर आपके मसीही जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना है। कुलुस्सियों - अध्याय 1-9-12

१ . ट्रिनिटी शब्द बाइबल में नहीं पाया गया है। ट्रिनिटी दो लैटिन शब्दों से आता है - TRI और UNIS, जिसका अर्थ है तीन और एक।
१ . जैसा कि हम बाइबल पढ़ते हैं, हम देखते हैं कि स्पष्ट रूप से केवल एक परमेश्वर है। हालाँकि, हम स्पष्ट रूप से तीन व्यक्तियों को देखते हैं जो परमेश्वर हैं - पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा। और, वे सभी परमेश्वर के गुणों, विशेषताओं और क्षमताओं के प्रदर्शित करते हैं।
२. हम तीनों ही रूप में परमेश्वर की दैवीय प्रकृति देखते हैं।

२. बाइबल ट्रिनिटी के अस्तित्व को साबित करने की कोशिश नहीं करती है, यह मानती है।

३. जब हम परमेश्वर के स्वरूप के बारे में बात करते हैं, तो हम कुछ कठिनाइयों में पड़ जाते हैंI
१  यह हम चर्चा करने का प्रयास कर रहे हैं अनंत (किसी भी प्रकार की सीमा के बिना) और अनन्त (कोई शुरुआत नहीं है और कोई अंत नहीं है)। भजन संहिता - अध्याय 90-2; 102:25-27
१ . हम अनंत काल के बारे में सोचते हैं जैसे यह एक लम्बा समय है। लेकिन, अनंत काल एक "अस्तित्व का तरीका है जिसमें घटनाओं और क्षणों की प्रगति शामिल नहीं है"। (जेम्स आर। व्हाइट)
२. परमेश्वर केवल समय या स्थान तक सीमित नहीं है, पर यह हमारे लिए कठिन है क्योंकि हम कुछ हद तक तक समझने में सीमित हैI। यिर्मयाह - अध्याय 2;23 24 कुरिन्थियों - अध्याय 6:18
३. यूहन्ना ४: २४-उसकी प्रकृति के अनुसार परमेश्वर आत्मा है, अदृश्य, सारहीन और शक्तिशाली।
४. इसलिए, जब हम उस परमेश्वर के बारे में बात करते हैं जिसने स्वयं को अभी तक तीन के रूप में प्रकट किया है, तो कुछ सीमाएं हैं कि हम अपने अस्तित्व में इस बिंदु पर कितनी समझ रख सकते हैं। 13 कुरिन्थियों - अध्याय 12:XNUMX

४. बाइबल में हम जो देखते हैं, उसके आधार पर आइए ट्रिनिटी की एक परिभाषा बताएं।
१. " एक परमेश्वर के भीतर, तीन अनादि और सहवर्ती व्यक्ति विद्यमान हैं, अर्थात्, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।" (जेम्स आर। व्हाइट)
२. केवल एक ही परमेश्वर है, लेकिन तीन ईश्वरीय व्यक्ति हैं I
३. प्रत्येक पूरी तरह से परमेश्वर है, परमेश्वर का एक तिहाई नहीं।

५. परमेश्वर तीन अलग-अलग व्यक्तियों (: पीटर, जेम्स और जॉन) से बना नहीं है।
१. परमेश्वर तीन हितों के क्षेत्रों में काम करने वाला एक व्यक्ति नहीं है।
२. इनमें से प्रत्येक, पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा पूरी तरह से परमेश्वर है और परमेश्वर के सभी गुणों को प्रदर्शित करता है = तीन व्यक्ति जो एक ही परमेश्वर हैं।

६. विशेष रूप से पिछली दो शताब्दियों में ट्रिनिटी के सिद्धांत को कई चुनौतियां मिली हैं।
१. हम विस्तार में नहीं जाएंगे, लेकिन यहाँ उनमें से कुछ हैं: यहोवा के साक्षी, ईसाई विज्ञान, मॉर्मन, और बहुत सरे खुद को मसीही कहलाये जाने वाले संगठन I
२. उनके विचारों में शामिल हैं: यहोवा एकमात्र परमेश्वर है; यीशु एक निर्मित अस्तित्व है; पवित्र आत्मा एक अवैयक्तिक बल है; कोई पिता या पवित्र आत्मा नहीं है, केवल यीशु; ट्रिनिटी में विश्वास बहुदेववाद है।

७ . लेकिन, इस विवाद का हल वही है जो हम अपने अध्ययन के हर क्षेत्र में पाते हैं।
१. यदि आपकी जानकारी का एकमात्र स्रोत बाइबल थी, तो आपके मन में कोई संदेह नहीं होगा कि परमेश्वर अभी तक तीन हैं।
२. यदि आप पूरे बाइबल को बिना किसी निर्धारित विचारों के साथ पढ़ते हैं, तो सभी छंदों को संदर्भ में लेते हुए, आप केवल एक ही निष्कर्ष पर पहुँच सकते हैं कि परमेश्वर एक है और एक परमात्मा में तीन, तीन व्यक्ति हैं।

१. हालाँकि ट्रिनिटी का सिद्धांत नए नियम तक पूरी तरह से नहीं लिखा गया था, फिर भी हम इसे पुराने नियम में देख सकते हैं।

२. याद रखें, पुराने नियम में परमेश्वर के लक्ष्यों में से एक यह था पूरी दुनिया में मूर्ती पूजा के बीच अपने आप को इस्राइल का परमेश्वर प्रकट करना I

३. यशायाह ४०- ४८- अध्यायों में परमेश्वर झूठे देवताओं को डांटते हैं जो उसके लोगों को मूर्तिपूजा में धकेलते थे,और इसी दौरान परमेश्वर खुद के बारे में बहुत कुछ बताते है I
१. ४०:१३-१८ - परमेश्वर की किसी भी चीज से तुलना नहीं की जा सकती।
२.४०:२१-१८ - परमेश्वर चाहता है कि मनुष्य अपने रचने वाले को जाने I
३.४३:१०-43-उसके पहले या बाद में कोई परमेश्वर नहीं है।
४.४६:६-44- उसके सन्मुख कोई और परमेश्वर नहीं है। वह प्रथम और अंतिम है।
५.४५:२१-45- कोई और परमेश्वर नहीं है केवल एक परमेश्वर हैI

४. फिर भी, परमेश्वर ने स्वयं को इज़राइल को संयुक्त राष्ट्र के रूप में प्रकट किया। व्यवस्थाविवरण - अध्याय 4- ४
१. एक के लिए दो हिब्रू शब्द हैं: ECHOD (संयुक्त एक या समग्र एकता- उत्पत्ति २;२४ गिनती १३:२३ ) और YACHID (केवल एक- उत्पत्ति २२:२ )।
२. गिनती ६:४ में परमेश्वर ने स्वयं का वर्णन और प्रकट करने के लिए ECHOD का उपयोग किया।

५.गिनती १:२६; ३:२२; ११:७; यशायाह ६:८- परमेश्वर के लिए बहुवचन शब्द का प्रयोग किया जाता है।
१. यह स्वर्गदूत नहीं हो सकते क्योंकि यह परमेश्वर के स्वरूप से नहीं हैI
२. परंतु पुत्र और पवित्र आत्मा पिता परमेश्वर के स्वरूप से हैI

६. उत्पत्ति १८- तीन लोगों ने अब्राहम के पास जाना बंद कर दिया और एक परमेश्वर थाI
१. ३;२७-अब्राहम ने परमेश्वर को अधोनाइ कहा = जिसका उपयोग केवल परमेश्वर के उचित नाम के रूप में किया जाता है।
२.यहोवाह नाम का इस्तमाल १,१३,१४,१७,१९,२०,२२,२६,३०,३१,३२,३३, में किया गया हैI
३. प्रभु ने अब्राहम से कहाँ था की केवल परमेश्वर के लिए ही संभव है - सारा एक पुत्र जानेगीI
४. १२,१३- उसने जाना सारा हसी थी ; (सर्वज्ञ = सब जानने वाला = परमेश्वर)।
५. यूहन्ना ५. १:१८; निर्गमन ३३:२०-अब्राहम ने परमेश्वर के साथ आमने-सामने बात की और जीवित रहा। उसने किसके साथ बात की? परमेश्वर के पुत्र सेI

७. पुराने नियम में बाइबल कई बार येशु मसीह के प्रकट होने का वर्णन करती है, बेतलहम में येशु के जनम से पहले यहोशू ५:१३-१५; न्याइयों १३:१-२५; १ करूं १०:४

८. पहले मसीहियों ने ट्रिनिटी की अवधारणा पर कभी सवाल नहीं उठाया होगा। मति ३:१६,१७
१.उन्हों ने पिता परमेश्वर को स्वर्ग से बोलते सुना थाI
२. उन्हों ने पुत्र को देखा और तीन साल तक उसके साथ चलेi
३. पिन्तेकुस्त के दिन उन्हों ने पवित्र आत्मा को पाया। प्रेरितों २:१-४

९. यीशु ने अपने अनुयायियों से स्वयं, पिता और पवित्र आत्मा के बारे में बात की। याहूना १४:२६; १५:२६; १६:७-१०; १३-१६

१०.मति २८:१९,२०-यीशु ने उन्हें और हमें पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम पर सुसमाचार प्रचार करने की आज्ञा दी हैI
१. परमेश्वर का नाम ग्रीक में एकवचन है, जो एक परमेश्वर को दर्शाता है।
२. हलाकि बोलने में तीन नाम है परन्तु एक नाम को दर्शाता हैI
३. यह पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा के नाम (एकवचन) में है, फिर भी वे विशिष्ट हैं।

११. एपिस्टल्स में, हम त्रिगुण परमेश्वर के स्वरूप को देखते हैं जो एक व्यक्ति के तीन व्यक्ति हैं।
रोम १४:१७,१८; १५:१६; १ करूं २:२-५; १ करूं ६:९-११; २ करूं १३:१४; इफिसि २:१८; ३:१४-१७; इफिसि ४:४-७; १ 14 थिस्सलुनी १:२-५; २ 17,18 थिस्सलुनी २:१३,१४

१. सर्वव्यापी (हर जगह मौजूद) - पिता (यिर्म २३:२३,1); पुत्र (मति १८:२०; २८:23); पवित्र आत्मा (भजन १३९:७ )।
२. सर्वज्ञता (सभी ज्ञान) - पिता (रोम ११:2); पुत्र (मति ९:४); पवित्र आत्मा (१ करूं २:11)।
3. सर्वव्यापी ( सर्व शक्तिमान) - पिता (१ पतरस १:1); पुत्र (मति २८:5); पवित्र आत्मा (रोम १५:१९)
४. पवित्रता - पिता (प्रकाश १५:4); पुत्र (प्रेरितों ३:15); पवित्र आत्मा (यूहन्ना १६:७-4)।
५. अनंत - पिता (भजन ९०:२); पुत्र (मीका ५:२; यूहन्ना १:२; प्रका १:८,१७); पवित्र आत्मा (इब्रा ९:5)
६. सत्य - पिता (यूहन्ना ७:२८); पुत्र (प्रकाश ३:७); पवित्र आत्मा (१ यूहन्ना ५:६)।
७.सारी सृष्टि में शामिल - पिता (उत्पत २:7; भजन १०२:२५); पुत्र (यूहन् १:१३; कुलु। १:६; इब्रान १:२); पवित्र आत्मा (उत्पत १:२; अय्यूब ३३:४; भजन १०४:३०)।
८. सृष्टि में रचित - पिता (इब्रा १०:५); पुत्र (इब्रा २:१४); पवित्र आत्मा
(लूका १:३५);
९. सभी पुनरुत्थान में शामिल थे - पिता (प्रेरितों २:२३; रोम ६:४; इफ १:१९,२०);

१. त्रिगुण का प्रत्येक व्यक्ति हमारे छुटकारे में सक्रिय रूप से शामिल था।
१. ज्ञान हमें परमेश्वर के साथ और अधिक प्रभावी ढंग से सहयोग करने में मदद कर सकता है।
१.परमेश्वर पिता ने हमारे पापों के लिए पुत्र को मरने के लिए भेजा।
२. परमेश्वर पुत्र स्वेच्छा से आया (अवतरित हुआ) और क्रूस पर हमारा स्थान लिया।
३.परमेश्वर, पवित्र आत्मा अब हमें प्रेरित करता है और हमें छुड़ाने और मसीह की छवि के अनुरूप होने के लाभों में काम कर रहा है।
४. क्या आपने कभी सोचा है कि आपको किससे प्रार्थना करनी चाहिए और आपको क्या कहना चाहिए? मोचन में प्रत्येक की भूमिका के बारे में यह जानकारी आपकी सहायता करेगी।

२. जब कुछ भी नहीं था, परमवश्वर (पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा), एक दूसरे के साथ प्यार, संगति में, पूर्ण, पूर्ण रूप से पूर्ण थे।
१. यूहन्ना १: १-शुरुआत में (सृष्टि के समय), यीशु, परमेश्वर (पिता और पवित्र आत्मा) के साथ मौजूद थे।
१.अखंड संगति का विचार।
२. शुरुआत में, शब्द मौजूद था। और शब्द परमेश्वर पिता के साथ संगति में था। और यह शब्द उनके साथ परम दिव्य रूप में था।
२. जब वह धरती पर था, यीशु ने पिता के साथ एक प्रेमपूर्ण संबंध की बात की जो समय की शुरुवात से पहले से थाI यहुना १७:५;२४
३. हमें उस दायरे में आमंत्रित किया गया है। हमें उस संगति में आमंत्रित किया गया है।
यहुना १७:२०;२३ १४:२०; १ यहुना १:३

१. परमेश्वर पिता, पुत्र, और पवित्र आत्मा, ने हमें उस दायरे में आमंत्रित किया है और इसके लिए हमें योग्य बनाया है।
२.क्या आप देख सकते हैं कि यह जानकारी आपके दैनिक जीवन में कैसे मदद करेगी?