परीक्षा और कठिनाइयां

(-)मसीही दुःख झेलेंगे?
(-)अधिक पीड़ा के बारे में
(-)परीक्षा और कठिनाइयां
(-)परीक्षा और कठिनाईओं के बारे में अधिक
(-)परमेश्वर का अनुशासन
(-)परमेश्वर संप्रभु है
(-)अयूब के बारे में क्या?
(-)अयूब के बारे में अधिक

१. हमारा उदेश्य है: परमेश्वर अच्छा है और अच्छे से भाव अच्छा है।
२. हम यीशु मसीह के शब्दों को आधार बनाते हैं।
ए। यीशु परमेश्वर का पूर्ण प्रकाशन है। यहुना १४: ९; इब्रा १: १-३
१. उन्होंने कहा कि परमेश्वर अच्छे हैं। मति १९:१७
२. यीशु के कार्यो को, अच्छा बताया गया है। प्रेरितों १०:३८
ख। उनकी पृथ्वी सेवकाई में, यीशु ने लोगों को चंगा किया, लोगों को बंधन से मुक्त किया, लोगों को परमेश्वर का वचन सिखाया, शैतान को बाहर निकाला, लोगों को मृतकों से उठाया, लोगों को खिलाया, लोगों की ज़रूरतों को पूरा किया, लोगों को प्रोत्साहित किया और आराम दिया, लोगों पर दया की, तूफान को उग्र होने से रोका।
सी। उसने न तो किसी को बीमार किया, न ही किसी को ठीक करने से इनकार किया, न ही यह देखा कि लोग क्या करेंगे, कोई भी परिस्थिति निर्धारित नहीं की, लोगों को वचन के साथ सिखाया (बुरी परिस्थितियों को भेजकर नहीं), कोई तूफान नहीं भेजा, जिससे कोई नुक्सान दुर्घटनाग्रस्त नहीं हुई।
घ। यीशु ने बार-बार कहा कि उन्होंने अपने पिता के कार्यों को किया। यहुना १४:१०
३. यह कई स्पष्ट विरोधाभासों को सामने लाता है। फिर दुःख क्यों है?
ए। क्या ऐसा नहीं है कि परमेश्वर द्वारा हमे विनम्र करने, सम्पूर्ण बनाने के लिए इसे भेजा जाता है, और यह मसीही जीवन का एक हिस्सा है?
ख। एक अच्छा परमेश्वर दुनिया में यह सब प्रकार के दुखों को कैसे अनुमति दे सकता है?
सी। फिर अय्यूब ? पुराने नियम का परमेश्वर ?
४. कोई विरोधाभास नहीं है। समस्या यह है:
ए। हमारे पास बाइबल के ज्ञान की कमी / या बाइबल का अधूरा ज्ञान है।
ख। हम अनुभवो पर (हमारे अपने या अन्य लोगों के) विश्वास करते हैं।
सी। हम सेब और संतरे मिलाते हैं = गलत तरीके से आयात को जीवन में लागू करते हैं।
५. इस श्रृंखला में, हम इसे पूरी तरह से सुलझा रहे हैं।
ए। पिछले दो पाठों में, हमने इस बारे में बात की कि कैसे मसीह ने हमारे लिए दुखो, पीड़ा का सामना किया ताकि हमें उन्हें भुगतना न पड़े - पाप की सजा और परिणाम। यशा ५३: ४-६; गला ३:१३; व्यवस्था २८
ख। हमे मसीह के लिए दुःख उठाने और मसीह के साथ पीड़ित होने के लिए बुलाया गया। फिल १:२९; रोम ८:१७
१. केवल एक चीज जिसे हम भुगत सकते हैं और वह है मसीह के लिए दुःख उठाना और कोई भी असुविधा या लागत का सामना करना जो उसकी सेवा से जुड़ी है।
२. उसमें भी हमारी जीत है। रोम ८: ३५-३७
सी। मसीह के लिए दुख उठाने में बीमारी, कार का नुकसान, नौकरी छूटना आदि शामिल नहीं है।
६. इस पाठ में, हम परीक्षा और क्लेश के बारे में बात करना चाहते हैं - क्या ये हमें परमेश्वर द्वारा सिखाने, परताने, हमें अनुशासित करने, हमें परिष्कृत करने, आदि के लिए भेजे या अनुमति दिए गए हैं?
७. जैसा कि हम अध्ययन करते हैं, हम पाएंगे कि परीक्षा और क्लेश परमेश्वर की ओर से नहीं आते हैं।
ए। परमेश्‍वर हमें सिद्ध करता है, हमें परखता है, हमें शुद्ध करता है, आदि उसके वचन और उसकी आत्मा के साथ।
ख। परीक्षा और क्लेश पाप द्वारा श्रापित धरती पर रहने का परिणाम है, जिसपर शैतान हावी हैI

१. पाप के कारण पृथ्वी में परीक्षा और क्लेश (जीवन की कठिनाइया) हैं।
ए। हमें पृथ्वी पर, पाप और उसके प्रभावों के परिणामों से निपटना चाहिए।
१. हम पाप द्वारा शापित पृथ्वी में रहते हैं यहाँ = हत्यारे तूफान, मातम, जंग, नुकसान दायक जीव हैI उतपति ३: १७-१९
२. हमारे पास ऐसे शरीर हैं जो नाशवान हैं = बीमारी, बुढ़ापे और मृत्यु के अधीन हैं। रोम ५:१२
३. हम शैतान द्वारा जीते गए लोगों के साथ बातचीत करते हैं। इफ २: २,३
४. हम उन मसीहियों के साथ बातचीत करते हैं, जो चरित्रहीन हैं और उनके पास दिमाग नहीं हैं। रोम १२: १,२
५. हमारा एक दुश्मन है जो हमें नष्ट करना चाहता है। १ पतरस ५: ८; यहुना १०:१०
ख। पिछले पाठ में, हमने बात की थी, कि कैसे हमारे अपने कमजोर विकल्प हमारे जीवन में दुख लाते हैं (हम जो बोते हैं उसे काटते हैं)।
सी। यीशु ने हमें बताया कि इस जीवन में हमे क्लेश = दुःख, तकलीफ, और दुःख झेलना पड़ेगा = पाप शापित पृथ्वी में जीवन। यहुना १६:३३
घ। जैसा की याकूब १: २ है - हम प्रलोभनों में पड़ जाते हैं (दुखो, मुसीबतो में, खुद को घिरा हुआ पाते हैं)।
इ। जैसा कि हम जीवन के में चलते हैं, हम कठिनाइयों का सामना करते हैं - याद करे कैसे इज़राइल ने सिनाई परबत को पार कर किया था।
१. यह एक शापित पृथ्वी के कारण एक पहाड़ी, रेगिस्तानी क्षेत्र था।
२. उनकी अपनी मूर्खतापूर्ण पसंदों ने यात्रा को बदतर बना दिया।
२. हमें यह जानने की जरूरत है कि परीक्षा और क्लेश परमेश्वर की ओर से नहीं आते हैं।
ए। वह हमें परखने, हमें अनुशासित करने या हमें सिद्ध करने के लिए हम पर बुरे हालात नहीं लाता है।
ख। मुझे पता है कि कुछ "हाँ, कुछ सवाल खड़े होते है लेकिन ..."। हम उनहे देखेंगे।
सी। शैतान अंततः सभी परीक्षाओं और कठिनाइयों के पीछे है क्योंकि वे सभी पाप और उसके राज्य के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष उत्पाद हैं।
३. जीवन की कठिनाइयाँ याकूब १: ३ के अनुसार हमारे विश्वास की परीक्षा करती हैं।
ए। विश्वास = परमेश्वर पर भरोसा या यकीन जो आपको उसके बारे में उसके वचन के माध्यम से पता चलता है।
१. यह विश्वास, वह भरोसा तब व्यक्त या प्रदर्शित किया जाता है जो हम कहते हैं और करते हैं।
२. विश्वास = परमेश्वर के साथ समझौता = उसके वचन का ज्ञान और उसके वचन में विश्वास जो हमरे शब्दों और क्रिया के माध्यम से व्यक्त किया जाता है।
ख। परमेश्‍वर का हमारे लिए प्यार हमे कुछ खास बातें, हमारी देखभाल,और हमेशा हमारी मदद करना बताता है ।
१. एक कठिन स्थिति में परमेश्वर को अविश्वसनीय, अनुचित, पक्षपाती आदि बनाकर परमेश्वर में आपके विश्वास को हिला देने की क्षमता है।
२. कठिनाइया , समस्यांए, उसके वादों को असत्य बनाने की कोशिश करती है - वह मेरी मदद नहीं कर रहा है! उसने मुझे नहीं सुना! वह मेरी परवाह नहीं करता है!
सी। बुरी स्थिति में परीक्षा यह है: क्या उस परिस्थिति में आप परमेश्वर के बारे में कहना चाहोगे, या क्या आप उनके वचन से सहमत होंगे?
४. एक बहुत ही वास्तविक अर्थ में, परमेश्वर आपकी हर दिन, 4 घंटे एक दिन परीक्षा लेता है! परीक्षा है: क्या आप उसके वचन पर विश्वास करेंगे?
ए। खराब परिस्थिति परमेश्वर द्वारा परीक्षा नहीं है - परिस्थिति में परमेश्वर का वचन ही परीक्षा है।
ख। आइए परीक्षऔ के कुछ बाइबल उदाहरणों पर ध्यान दें।
१. जंगल में इज़राइल। निर्ग १५:२५; १६: ४; २०: १८-२६
२. जोसेफ - परमेश्वर का वचन उसकी परस्तिथिओं में उसकी परीक्षा थाी भजन १०५: १९
३. अब्राहम - परीक्षा वचन था। इब्रा ११:१७ ; उतपति २२: १-१८
४. यीशु - उसने जो परीक्षा दी वह उसका वचन था। यहुना ६: ६
५. याद रखें, हम सेब और संतरे को मिलाते हैं।
ए। हम कहते हैं कि परीक्षा परमेश्वर द्वारा कठिनाईओं के रूप में मसीहियों के जीवन में उन्हें पूर्ण, अनुशासित आदि करने के लिए परमेश्वर की अनुमति से आती हैI
ख। हमारी एक गाइड लाइन याद रखें - क्या परमेश्वर लोगों को पाप करने और नरक में जाने की अनुमति देता है।
सी। १ पतरस ४:१६ एक मसीही के रूप में दुःख के बारे में बात करता है। अविश्वासियों के लिए परीक्षा है।
१. मसीह के लिए जीने में पीड़ा सहना और समय मुताबिक बलिदान ही एकमात्र दुख है जिसे हम अनुभव कर सकते हैं जो दुनिया नहीं कर सकती।
२. यही पत्रों का प्रसंग है - कष्ट उत्पीड़न।
घ। परीक्षा और कठिनाइयां "मसीही उत्पीड़न" नहीं हैं - ये सिर्फ यहाँ मौजूद हैं!
इ। मसीही और गैर - मसीही दोनों इनसे गुजरते हैं।

१.परमेश्वर हम में काम करता है, हम पर नहीं - यह एक महत्वपूर्ण बिंदु है!
ए। यदि हम मानते हैं कि परमेश्वर हम पर कार्य करता है, तो हमारे प्रमाण परिस्थिति हैं।
ख। यदि हम मानते हैं कि परमेश्वर हम में कार्य करता है, तो हमारा प्रमाण उसका वचन है।
२. नए नियम का कहना है कि परमेश्वर हम में काम करता है, हम पर नहीं! इफ ३:१६; फिल १: ६; २:१३; इब्रा १३:२१
३. यदि आपको लगता है कि परमेश्वर आप पर कठिन परिस्थितियों डाल रहा है, तो आप इनमे और घिरते जाओगे बजाए इनसे निकलने और समझने कि :
ए। उसके वचन में देखे पवित्र आत्मा से मदद मांगे।
ख। याकूब १: ५- "और यदि आप में से कोई भी किसी विशेष समस्या से निकल नहीं पता है, तो उसे केवल परसमेश्वर से मदद मांगनी चाहिए।" (फिलिप्स)
४. बाइबल में कहीं भी हमारी खराब परस्तिथयो (अच्छी या बुरी) को हमरा गुरु नहीं कहाँ गया हैं।
ए। पवित्र आत्मा को शिक्षक कहा जाता है, और वचन को शिक्षक कहा जाता है। २ तिमो ३:१६; यहुना १४:२६; १६:१३
ख। आप परिस्थितियों को देखकर परमेश्वर की इच्छा को नहीं जान सकते।
१. शैतान परिस्थितियों को दूर करने में पूरी तरह सक्षम है।
२. याद कीजिए जब पौलुस को प्रेरितों के काम २८: १-६ में सांप ने काटा था
५. जीवन की कठिनाइयाँ हमें शुद्ध करने, या हमें परिपूर्ण करने के लिए नहीं हैं - परमेश्वर का वचन यह करता है।
ए। २ तिमो ३:१७ - पूरी तरह से सुसज्जित = पूर्ण (ग्रीक में)
ख। इफ ४:१२ हमें बताता है कि संतों को सिद्ध करने के लिए सेवकाई उपहार दिए गए थे। क्लू १:२८
सी। यहुना १५: २,३; इफ ५:२६ = वही ग्रीक शब्द = शुद्ध (इब्रानी में भी
इस्तेमाल किया गया) ०९:१४; १ यहुना १: ७,९)
घ। अगर हम इससे समझे तो अच्छे से समझ सकते है।
१. बाइबल बताती है कि यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर ने हमारे लिए क्या किया है, और हमे कैसे चलना है। इब्रा १०:१४; २ तिमो २:२१
२. पौलुस ने यह प्रशन गलातियों (३: ३) में पूछा - आपने आत्मा में शुरू किया; क्या अब आप शरीर में परिपूर्ण हो गए हैं?
३. क्यों, और कैसे बाहरी परिस्थितिया आपके आवक के कार्य को पूरा करेगी?
६. बाइबल और परीक्षाओं के बीच संबंध पर ध्यान दें।
ए। थिस्सलुनीकियों ने विपत्ति में वचन प्राप्त किया (यहुना १६:३३ शब्द एक ही है) I थिस्स १: ६; ३:१०
१. यदि विपत्ति शिक्षक है, तो उन्हें वचन की आवश्यकता क्यों थी?
२. अगर परीक्षा हमारे विश्वास को सही करती है, तो पौलुस ने एक परीक्षा के वक्त उनके विश्वास को सही करने के लिए तिमोथियुस को वचन के साथ थिसलुनीकिया क्यों भेजा?
ख। २ तिमो ३:१२ - ईश्वरीय उत्पीड़न। हमें सिखाने वाले उत्पीड़न के बारे में किसी शब्द का उल्लेख नहीं किया जाता है। हाँ, वचन को हमारा शिक्षक कहा जाता है। आयात १६
सी। उसी अध्याय में जहां परीक्षऔ पर चर्चा की जाती है, याकूब १:२१ हमें बताता है कि यह वचन है जो हमारी आत्माओं को बचाता है = चरित्र दोषों को दूर करता है।
७. बाइबल शैतान कि, कि वह परीक्षा, क्लेश, दुःख, आदि के स्रोत के रूप में पहचान करती है।
ए। शैतान को परताने वाला कहाँ जाता है (मति ४: १-३; १ थिस ३: ३-५), और परीक्षऔ को प्रलोभन कहा जाता है। याकूब १: २,३; १२
ख। विपत्ति, उत्पीड़न, परीक्षा: शैतानी गतिविधि। मरकुस ४: १५; १७; १ पतरस ४:१२; ५: ८,९
८. लोग कहते हैं कि कुछ परीक्षा शैतान से हैं, लेकिन कुछ परमेश्वर से हैं।
ए। लेकिन याकूब १:१३ हमें बताता है कि परमेश्वर किसी को भी पाप करने के लिए नहीं लुभाते हैं।
ख। अविश्वास पाप है। यदि परिस्थिति में चुनाव अविश्वास (पाप) है, तो परिस्थिति परमेश्वर से नहीं हो सकती।
९. यद्यपि परमेश्वर परीक्षा नहीं भेजता है, फिर भी वह उनसे हमे निकलना चाहता है।
ए। वह हमें आराम देना चाहता है = मजबूत बनाना और प्रसन करना। २ करूं १: ३,४
१. यदि परमेश्वर हम पर परीक्षा भेजता है, और केवल हमे उनसे छुड़ाने के लिए मुड़ जाता है, तो क्या यह विभाजित घर नहीं है? मति १२: २५-२७
२. “वह आपको जितना सहन कर सकते है उससे अधिक आपको नहीं देगा क्या है?” १ करूं १०:१३
ए। यदि हम आयात को संदर्भ में पढ़ते हैं, तो उल्लिखित परीक्षा पाप का प्रलोभन है।
ख। आपको कभी भी अन्य लोगों की तरह किसी भी तरह से पाप करने का लालच नहीं दिया गया है। परमेश्वर पर भरोसा करो। वह आप पर काबलियत से अधिक परीक्षा को आने की अनुमति नहीं देगा। लेकिन जब आप लुभाए जाते हैं, तो वह आपके लिए पाप में गिरने से बचने का एक रास्ता बना देगा। (नया जीवन)
ख। परमेश्वर वास्तविक अच्छाई को बुराई से बाहर लाना चाहता है। रोम ८:२८
सी। परमेश्वर हमें छुड़ाना चाहता है! भजन ३४: १७; १९; २ तिमो ३:११; २ पतरस २:९

१. आप उसकी पूरी तरह से सेवा नहीं कर सकते, जिन पर आप विश्वास नहीं करते हैं। भजन ९:१०
ए। हम उससे प्रेम करते हैं क्योंकि पहले उसने हमसे प्रेम किया। १ यहुना ४:१९
ख। परमेश्वर के साथ आपके संबंधों की गहराई इस तथ्य से जुड़ी हुई है कि आप अपने प्रति उसके प्यार को कितना जानते हैं।
२. परमेश्वर के चरित्र के बारे में कम ज्ञान आपको निष्क्रिय बना सकता है = नाकि आपके जीवन में परमेश्वर की इच्छा के रूप में सब कुछ स्वीकार करना।
ए। एक निष्क्रिय मसीही आमतौर पर एक पराजित मसीही है।
ख। हमें कहा जाता है कि हम परमेश्वर की आज्ञा में रहे, और शैतान का विरोध करें। आप यह नहीं कर सकते यदि आप नहीं जानते कि परमेश्वर कौन, क्या है! याकूब ४: ७; १ पतरस ५: ९; इफ ४:२७; ६:११
3. इन चीजों में कम ज्ञान आपको परीक्षाओं में अनुचित तरीके से जवाब देने में महत्वपूर्ण गलतियां करने का कारण बन सकता है।
ए। आप यह जानने की कोशिश करें कि परमेश्वर के वचन और आत्मा की तलाश करने के बजाय आप क्या कर रहे है, इसे जानने के लिए कि क्या करना है।
ख। आप प्रसन्ता को इकठा नहीं करते, और न शैतान का विरोध करते हैं।
सी। आप कटु हो जाते हैं और परमेश्वर को दोष देते हैं।

१. हमने परीक्षाओं और कठिनायों के बारे में हर सवाल का जवाब नहीं दिया है, हमारे पास अभी भी बहुत कुछ है।
२. लेकिन, जैसा कि हम करते हैं, हमें अपने मार्गदर्शक सिद्धांत को याद रखना चाहिए - यीशु ने हमें परमेश्वर, परीक्षाओं और कठिनायों के बारे में क्या दिखाया है?
ए। परमेश्वर उन्हें नहीं भेजता है - वह हमें सुकून देता है और हमें बचाता है।
ख। यीशु हमें दिखाता है: परमेश्वर अच्छा है और अच्छे से भाव अच्छा है।