क्या महिलाये कलीसिया में बोल सकती है?

(-)क्या महिलाये कलीसिया में बोल सकती है?
(-)क्या महिलाएँ बाइबल सिखा सकती हैं?

१. १ तिमो २:१२ के आधार पर, कई मसीहियों का मानना ​​है कि महिलाओं को बाइबल सिखाना नहीं चाहिए।
१. हालाँकि, १ तिमो २:१२ के संदर्भ से ध्यानपूर्वक अध्ययन के माध्यम से हम यह पाते है, कि आयात एक सार्वभौमिक नहीं है, जो बाइबल पढ़ाने वाली महिलाओं के खिलाफ हर समय प्रतिबंध लगाती है। परन्तु यह एक विशेष स्थिति,
और एक विशिष्ट समय से सम्बंदित था।
२. प्रेरित पौलुस ने तीमुथियुस को लिखा, जो इफिसुस में चर्च की देखरेख कर रहा था, ताकि महिलाओं को पढ़ाने से रोका जा सके - इसलिए नहीं कि वे महिलाएँ थीं - बल्कि इसलिए कि वे झूठे सिद्धांत सिखा रही थीं।
२. हालाँकि हमने १ तिमो २:१२ को बहुत अच्छी तरह से कवर किया है, इस पाठ में कई अन्य संबंधित मुद्दे हैं जिन पर हम विचार करना चाहते हैं।
१. १ करूं १४: ३४,३५-अगर महिलाएं चर्च में बोल नहीं सकती हैं तो वे कैसे सिखा सकती हैं?
२. क्या महिलाओं को चर्च में नेतृत्व के पदों से रोक दिया गया है?

१. प्रेरितों के काम २: १७,१८ में — पिन्तेकुस्त के दिन प्रेरित पतरस द्वारा प्रचारित पहले उपदेश में, उन्होंने नबी जोएल के हवाले से कहा कि, कि महिलाएं आखिरी दिनों में भविष्यवाणी करेंगी।
१. आखिरी दिन तब शुरू हुए जब यीशु पहली बार धरती पर आए, और जब वह वापस आएंगे तो खत्म हो जाएंगे।
२. सरल भविष्यवाणी एक ज्ञात जीभ में उच्चारण, वक्ता और श्रोताओं द्वारा समझी जाने वाली भाषा से प्रेरित है। १ करूं १४: ३ (सामान्य रूप से मनुष्य = मानव जाति)
१. भविष्यवाणी का सरल उपहार भविष्यद्वक्ता की भविष्य के बारे में भविष्यवाणी भाषा से भिन होता हैI
२.१ करूं १४: ३१-भविष्यवाणी के माध्यम से (जो सभी कर सकते हैं) पुरुष और महिलाएं सीखते हैं और दिलासा पाते है।
२. १ करूं १४: ३४,३५ और १ तिमो २:१२ का मतलब यह नहीं है कि महिलाएं चर्च में बात नहीं कर सकती हैं और न ही सिखा सकती हैं, क्योंकि हमारे पास महिलाओं के लिए नए नियम में उदाहरण हैं, जिसमे शिक्षण और बोलना दोनों हैं।
१. प्रेरितों के काम १८: २६ — आखिरी पाठ में हमने प्रिस्किल्ला को देखा, एक औरत ने, एक आदमी, अपुल्लोस को सिखाया।
२. लूका १: ४६-५५- एलिजाबेथ, मरियम की चचेरी बहन, ने भविष्यवाणी की जब मरियम उससे मिलने आई थी।
३. लूका २: ३६-३८-ऐना, मनुष्य की मुक्ति के संबंध में कलीसिया में भविष्वाणीI
४. प्रेरित १: १३,१४; २: १-११-महिलाएँ परमेश्वर की अद्भुत शक्ति द्वारा अन्य भाषा में बोल रही थीं (बोलने वाले को नहीं पता था कि भाषा प्रेरित है)।
१. नए नियम के तहत कलीसिया एक इमारत नहीं है, कलीसिया मसीह का शरीर है।
२. यदि महिलाएं कलीसिया में नहीं बोल सकती हैं, तो वे कहीं भी नहीं बोल सकती हैं। जहाँ दो या तीन उनके नाम पर इकट्ठे होते हैं - वह कलीसिया है!
५. प्रेरितों के काम १०: ४४-४६; प्रेरितों के काम ११: १३,१४-महिलाएँ मिश्रित लिंग निर्मित में बोल रही रही थीं, और सभा में परमेश्वर की महिमा कर रही थीं। यही कलीसिया है!
६. प्रेरितों के काम २१: ८,९-फिलिप्पुस प्रचारक की चार बेटियाँ थीं जिनके द्वारा भविष्यवाणी की गई थी।
३. अगर महिलाओं को चर्च में चुप रहना चाहिए, तो १ करूं ११: ४,५ के साथ यह कैसे फिट बैठता है? बहुत ही बार यही प्रेरित ने यह भी कहा है कि महिलाएं चर्च में बोल सकती हैं (१ करूं १४: ३४,३५) यह कहता है कि महिलाएं सार्वजनिक प्राथना सभाओ में पूजा, सेवाए, प्रार्थना और भविष्यवाणी कर सकती हैं।

१. प्रेरितों के काम १८: १-१८-प्रेरित पौलुस ने कुरिन्थुस में कलीसिया की स्थापना की। इसके बाद वह कुरिन्थ में अठारह महीने (ए। डी। 1-18) में रहे और अपने सुसमाचार के प्रचार में लगे रहे।
१. यहूदियों और अन्यजातियों दोनों ने मसीह को ग्रहण किया, लेकिन जैसा कि अक्सर पौलुस ने प्रचार किया, उसने कई यहूदियों को नाराज कर दिया। पौलुस ने कुरिन्थ में यहूदियों से बहुत उत्पीड़न का अनुभव किया।
२. वे गोली के सामने पौलुस के खिलाफ आरोपों को लाए, अचिया के प्रचारक (रोमन राजनीतिक डिप्टी), जिस क्षेत्र में कुरिन्थ स्थित था।
२. कुरिंथ में डेढ़ साल के बाद, पौलुस ने इसे छोड़ दिया और अपनी तीसरी मिशनरी यात्रा शुरू की। प्रेरितों के काम १८: १९-२६
१. अंततः वह इफिसुस में तीन साल (A.D. ५२-५५) तक बसा रहा। प्रेरितों के काम १९: १-१०; २०:३१
१. जबकि इफिसुस में पौलुस को कुरिन्थियन कलीसिया में परेशानियों की रिपोर्ट मिली थी।
२. क्लो के घर के सदस्य उसे एक रिपोर्ट (१ करूं १:११) लाए। कलीसिया के तीन सदस्यों ने उन्हें एक वित्तीय उपहार दिया, और शायद जो कुछ चल रहा था, उसके बारे में अधिक जानकारी जोड़ दीI
(१ करूं १६:१७)। इन समूहों में से एक ने पौलुस को कोरिंथ से एक सवालों भरा पत्र दिया,
विभिन्न नैतिक और सैद्धांतिक मुद्दों के साथ (१ करूं ७: १)।
२. इन समस्याओं और मुद्दों से निपटने के लिए कोरिंथियंस को पहला पत्र लिखा गया था।
१. अध्याय १-४ कलीसिया में विभाजन च्लोए की रिपोर्ट से संबंधित है।
२. अध्याय ५,६ किलिसय में व्यभिचार की रिपोर्ट।
३. अध्याय ७-१६ उसके द्वारा लाए गए पत्र में पौलुस से पूछे गए सवालों के वह उत्तर देता है।
३. आयात जो हमें बताती है कि कलीसिया में महिलाये बोलने के लिए नहीं है, पत्र के तीसरे खंड में पाया जाता है जहां पौलुस इस पत्र में उन परस्थितियों से निपट रहा था, जो उसके पास लायी गयी थी (१ करूं ७: १)। हमारे पास उन सवालों के पत्र की कॉपी नहीं है,
इसलिए हमें यह मानकर चलना होगा कि पौलुस के पत्र उनके उत्तरों पर आधारित थे।
४. सवालों के जवाब में पौलुस इन मुदो के बारे लिखता है, शादी (७: १-२४), कुँवारापन (७: २५-४०), मूर्तियों के आगे बलिया चढ़ाना (८: १- ११: १), सार्वजनिक उपासना में समस्याएं (११: २ -३४), आत्मिक उपहार
(१२: १-१४: ४०), मुर्दो का जी उठना (१५: १-५८); संतों के लिए संग्रह (१६: १-४)।

१. ग्नोस्टिक्स ने आत्मा को बढ़ाया और शरीर का मूल्य कम। वे भौतिक दुनिया को बुरा मानते थे।
१. उनका मानना ​​था कि जब उन्हें मसीह में बपतिस्मा दिया गया था तो उन्हें उनके शरीर से मुक्त कर दिया गया था, और वे शरीर को लिप्त कर सकते थे या उन्हें वंचित कर सकते थे।
२. कुछ कोरिंथियन ग्नोस्टिक्स एक साथ रह रहे थे और यौन अनैतिकता में लिप्त थे। १ करूं ५: १
२. यहूदी लोग मानते थे कि यीशु मसीहा थे, लेकिन पुरुषों का खतना करना था अपने धर्मिक कानून को बचाए रखना था। वे चाहते थे की यीशु मसीह यहूदी कानून और रीति-रिवाजों का पालन करें।
१. यहूदी धर्म में उस समय महिलाओं को पुरुषों से अलग रखा गया था, सभा और मंदिर में भी उन्हें चुप रहना होता थाI
२. कोरिंथ में ६०,००० विश्वासी हो सकते हैं, जिनमें से अधिकतर अन्यजातियों के भी थे, लेकिन कई यहूदियों के भी, और, कई महिलाएं मसीहियत में आयी थीं, जो कलीसिया में मसीह की नई स्वतंत्रता का अनुभव कर रही थीं।
३. यह यहूदियों के लिए बहुत परेशान करने वाला था क्योंकि इसने उनके कानूनों और रीति-रिवाजों का खंडन किया था।
३. १ करूं १४: ३४,३५ कहता है, कि महिलाओं को कलीसिया में नियमो के अनुसार चुप रहना चाहिए। कौनसे नियम?
१. जब न्य नियम नियमो को संदर्भित करता है तो यह आम तौर पर विशेष रूप से बाइबिल की पहली पांच पुस्तकों, टोरा या पेंटाटेच को संदर्भित करता है। पुराने नियम में कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि महिलाओं के लिए सार्वजनिक रूप से बोलना शर्म की बात है या वे सवाल नहीं पूछ सकतीं।
२. १ करूं १४:३४ में उल्लिखित कानून यहूदियों का मौखिक कानून है।
४. इन कानूनों में, निर्णय, बातें और शुरुआती रब्बियों की व्याख्या और टोरा के बारे में जानकारी शामिल है।
१. इन नियमों को मौखिक रूप से एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को सौंप दिया गया, और अंततः दो रूपों में लिखा गया: मिशनाह, हिब्रू में लिखा गया, जो की टोरा पर आधारित था,
और जेमरा, जो अरामी में लिखा गया, जो मिशनह पर अतिरिक्त टिप्पणियों का एक संग्रह था।
२. जब यीशु ने अपनी प्रचारक यात्रा शुरू की, तब तक इन परंपराओं को लिखित वचन, बाइबिल (टोरा) के समान वजन दिया जाता था।
१. ये वे परंपराएँ हैं, जिन्हें यीशु ने उन फरीसियों के साथ चर्चा में संदर्भित किया है, जिनके बारे में उन्होंने कहा था कि उन्होंने परमेश्वर की आज्ञाओं का खंडन किया है। मति १५: ३; मरकुस ७: ३
२. ये यहूदी दंतकथाएं हैं जिन्हें पौलुस ने लताड़ा था। तीतुस १:१४
३. महिलाओं और समाज में उनके स्थान के बारे में यहूदी मौखिक कानून में बहुत कुछ था। जब तक यीशु पृथ्वी पर आया, मौखिक कानून के अनुसार, महिलाओं को आदमी के पतन के लिए दोषी ठहराया गया, संपत्ति के रूप में देखा गया, सुना,
और जितना संभव हो उतना कम देखा गया, और उन्हें सीखने की अनुमति नहीं दी गई।
५. सभी यहूदी पुरुष प्रतिदिन प्रार्थना करते थे: परमेश्वर की स्तुति हो, उसने मुझे एक अन्यजाति नहीं बनाया है; परमेश्वर की स्तुति हो, उसने मुझे स्त्री होने के लिए नहीं बनाया है; परमेश्वर की स्तुति हो उसने मुझे अज्ञानी नहीं बनाया है।
१. यहूदी इतिहासकार जोसेफस, जो एक फरीसी था, ने लिखा, "महिला, कहती है, यहूदी कानून (मौखिक कानून), एक आदमी के लिए सभी चीजें हीन हैं। उसके अनुसार उन्हें विनम्र होने दें ”।
२. मौखिक कानून में कहा गया था, "महिलाएं यौन रूप से मोहक, मानसिक रूप से हीन, सामाजिक रूप से शर्मनाक और आध्यात्मिक रूप से मूसा के कानून से अलग थीं; इसलिए, उन्हें चुप रहने दो।
६.यहूदी पुरषो की मौजूदा बुरी हालत,और महिलाओं के बोलने और कलीसिया में सार्वजनिक स्थान पाने से परेशान थे। प्रिसिला याद है। १ करूं १६:१९

१. पौलुस स्पष्ट रूप से कोरिंथ में कलीसिया की एक विशिष्ट स्थिति से निपट रहा था, सभी महिलाओं के लिए हमेशा के लिए नियम नहीं बना रहा था। क्योंकि हमारे पास कोई विशेष पत्र नहीं है कि कुरिंथियन कलीसिया ने पौलुस से क्या पूछा, हम 1% निश्चितता के साथ नहीं कह सकते हैं कि पौलुस महिलाओं पर नए नियम बना रहा था।
२. ये आयतें उस पत्र का विवरण हो सकती हैं जो उससे पूछा गया था।
१. "यह अनुमति नहीं है, उन्हें आज्ञा दी जाती है, यह शर्म की बात है"। वे पौलुस के शब्द या पुराने नियम के शब्द नहीं हैं। वे यहूदियों के अवैज्ञानिक मौखिक कानून के संदर्भ हैं।
२. शायद पौलुस से जो सवाल पूछा गया था, उनमें से एक जुडाइज़र से था:, कुरिन्थ की यहाँ की महिलाएँ प्रार्थना कर रही हैं और सार्वजनिक रूप से भविष्यवाणी कर रही हैं। वे जोर-जोर से प्रार्थना कर रहे हैं। कानून (तल्मूड, मिशनह) कहता है कि यह अपमानजनक है।
३. पौलुस ने आयात ३६- में जवाब दिया-क्या मैं आपको मेरे निर्देशों पर सवाल उठाते हुए देख रहा हूं? क्या आप कल्पना करने लगे हैं कि परमेश्वर का वचन आपकी कलीसिया में उत्पन्न हुआ है, या कि आपके पास परमेश्वर के सत्य का एकाधिकार है? (फिलिप्स)
१. पौलुस उन्हें बताता है: आपका मौखिक कानून परमेश्वर के वचन के बराबर नहीं है और इसका पालन करने की आवश्यकता नहीं है।
२. वह यह कहकर निष्कर्ष निकालता है - भविष्यवाणी करने की इच्छा (जो उसने पहले ही कहा है कि महिलाएं सार्वजनिक रूप से कर सकती हैं) और किसी को भी जीभ में बोलने से मना नहीं करती हैं।
४. हम पत्र में लिखी अन्य बातों से जानते हैं कि पौलुस सार्वजनिक उपासना सेवाओं में अव्यवस्था की बात कर रहे थे।
१. वह सर्वजनिक अन्यउचित तरीके से सर ढकने की बात कर रहा था, (१ करूं ११: ३-१६), और कलिसिया या सेवाओं में विभाजन या परस्पर विरोधी समूह (१ करूं ११: १७-१९), प्रभु के भोज में नशे और लोलुपता,
(१ करूं ११: २०-३४)।
२. आत्मिक दातो के दुरुपयोग के कारण उनकी सभाओ में अव्यवस्था और भ्रम भी था।
१ करूं १२, १३, १४
५. अध्याय १४ में पौलुस उनकी सेवाओं में व्यवस्था के महत्व को बताते हैं।
१ करूं १४: ३३,४०
१. वह उन्हें आत्मिक दांते (१ करूं १४: १,३९) पाने से हतोत्साहित नहीं करना चाहता, लेकिन लक्ष्य या बिंदु यह है कि दांते सबसे अधिक लोगों को संभव बनती हैं। १ करूं १४:१२
२. इस अध्याय में शब्द ''उपदेश दिया'' सात बार (आयत ३, ४ (दो बार), ५,१२,१७ ,२६) का उपयोग किया गया है, और ''लाभ'' शब्द का एक बार (आयात ६) उपयोग किया गया है।
६. हम नहीं जानते कि किन विशिष्ट समस्याओं के बारे में पौलुस बात कर रहे थे, क्योंकि वे लिखी नहीं गई थी।
१. पौलुस की प्रतिक्रियाओं से, हम अनुमान लगा सकते हैं, वे कोई व्याख्या नहीं कर रहे थे तब वे एक-दूसरे से जीभ से बात कर रहे थे, ना कि उसी समय आत्मिक दांतो की बात कर रहे थेI
२. यह संभव है कि महिलाएं उस समय जोर- से बात कर रही थीं और अपने पतियों से सवाल पूछ रही थीं, सेवाओं में अव्यवस्था और भ्र्म जोड़ रही थीं, और पौलुस उस मुद्दे पर १ करूं १४: ३४,३५; बात कर रहे थे।

१. हमने पहले से ही प्रिस्किल्ला का उल्लेख किया है, जीन साथ पौलुस ने काम किया था। रोमन के अंत में पौलुस ने २८ लोगों को शुभकामनाये दी, जिनमें से दस महिलाएं थीं (प्रिस्किल्ला, रोम १६: ३३ सहित)।
१. रोम १६: ७-वह साथी कैदियों और उत्कृष्ट प्रेरितों के रूप में एंड्रोनिकस और जूनिया को सलाम करता है।
२. जूनिया एक महिला थी। लिंग को लेकर कुछ भ्रम है क्योंकि दोनों नाम अभियुक्त मामले में हैं। लेकिन, उनका उल्लेख कलीसिया के शुरुआती पिता के रूप में करते हैं।
२. रोम १६: १,२-फोबे एक उपयाजक था। ग्रीक में शब्द सेवक DIAKONOS है जिसका अनुवाद दास किया जा सकता है, लेकिन फिल १:१; में इसका अनुवाद डेक्कन ''उपयाजक'' है: १ तिमो ३: ८,१२.
१. KJV किंग जेम्स वर्ज़न आयात २ में उसे (सुक्कूर) बहुतों की परेशानी में सहायता करने वाला कहता है। इस ग्रीक शब्द का कहीं भी ग्रीक आयतों में इस तरा अनुवाद नहीं किया गया है। यह एक सामान्य शास्त्रीय शब्द था और इसका मतलब था एक संरक्षक, रक्षा, एक महिला जो दूसरों के ऊपर स्थापित थी।
२. यह एक शब्द (PROISTEMI) का व्युत्पन्न है, जिसका अर्थ है कि पद पर खड़े होना, और अध्यक्षता करना। यह अधिक होने या शासन करने के लिए अनुवादित किया जा सकता है।
३. इस शब्द का अर्थ है रक्षक या संरक्षक जब यह पुरुषों को संदर्भित करता है। यह पौलुस का शब्द है जिसका उपयोग १ तिमो ३: ४,५,१२; ५:१७ में बिशप और उपयाजको के लिए योग्यता को सूचीबद्ध करते समय किया गया था। इसलिए पुरुष के लिए जो इस शब्द का अर्थ है वह महिला के लिए भी है।
३. १ तिमो ३: १-१३ में पौलुस बिशप और उपयाजको के लिए योग्यता को सूचीबद्ध करता है, जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को लिखा जाता है।
१. आयात १- "IF A MAN" आदमी, ग्रीक में TIS है, जो एक शब्द है जिसका अर्थ नर या मादा दोनों को दर्शाता है। ANER पुरष के लिए शब्द है। अगर पौलुस का मतलब सिर्फ पुरष होता तो उसने इस शब्द का इस्तेमाल किया होता।
२. चर्च का इतिहास हमें बताता है कि महिलाओं को ४ वीं शताब्दी में याजको के रूप में ठहराया गया था। पहले 4 वर्षों में, मंत्रि, पुरुषों या महिलाओं को याजक कहा जाता था।
४ . १ तिमो ३: ११-यहां तक ​​कि इसी तरह (HOSAUTOS) पुरषो के लिए ग्रीक में है, जो पिछली आयात से जोड़ता है।
१. कुछ लोग कहते हैं कि यह आयात बिशप और याजको की पत्नियों से बात करती है, लेकिन ग्रीक में ऐसा नहीं है।
२. यह आयात महिलाओं के लिए आवश्यकताओं को संदर्भित करती है। पत्नी और महिला के लिए ग्रीक (GUNE) में कोई अलग शब्द नहीं है। GUNAIKAS HOSAUTOS, या, इसी तरह का कोई और शब्द।

१. ये आयतें, १ तिमो २:१२ और १ करूं १४: ३४,३५ मसीहियों के लिए ठोकर का कारण बन सकती हैं। हमें इन्हे स्पष्ट करने की आवश्यकता है।
२. संपूर्ण बाइबल की हमारी समझ के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है, कि हर चीज का एक संदर्भ होता है और यह संदर्भ उस सीमा को निर्धारित करता है जो आयात का अर्थ हो सकती है और नहीं हो सकती।
३. २ तिमो ३: १६-जैसा कि हम प्रभु में बढ़ते हैं, सारा शास्त्र हमारे लिए लाभदायक है।
१. कुछ भोजन हमारी हड्डियों का निर्माण करता हैं। कुछ भोजन हमें त्वरित ऊर्जा प्रदान करता हैं। और कुछ सिर्फ मजे के लिए होता है।
२. परमेश्वर शब्द ऐसा है, अगर हम परिपक्व, मजबूत मसीही बनने जा रहे हैं तो हमें इसकी सम्पूर्ण आवश्यकता है।