परमेश्वर का अनुशासन

(-)मसीही दुःख झेलेंगे?
(-)अधिक पीड़ा के बारे में
(-)परीक्षा और कठिनाइयां
(-)परीक्षा और कठिनाईओं के बारे में अधिक
(-)परमेश्वर का अनुशासन
(-)परमेश्वर संप्रभु है
(-)अयूब के बारे में क्या?
(-)अयूब के बारे में अधिक

१. हमें पूरी तरह से परमेश्वर में चलने के लिए उनके चरित्र का सही ज्ञान होना चाहिए। भजन ९:१०
१. हमारा उदेश्य है: परमेश्वर अच्छा है और अच्छे से भाव अच्छा है।
ए। लेकिन, यह हमें कुछ स्पष्ट विरोधाभास लाता है।
ख। पुराने नियम और नए नियम के परमेश्वर के बीच अंतर क्यों? अय्यूब के बारे में क्या? परीक्षा और कठिनाईना? दुख?
३. हमें इनमें से कुछ चीजों को साफ करने में समय लग रहा है। हमने कहा है:
ए। परमेश्वर हमारे जीवन में दुख नहीं लाते हैं।
ख। परीक्षा और कठिनाईआं परमेश्वर की ओर से नहीं आती हैं; वे पाप और शैतान के कारण मौजूद हैं। मति १३: १९-२१; मरकुस ४: १५-१७; लूका ८: १२,१३; प्रका २:१०
४. इस क्षेत्र में भ्रम है क्योंकि लोग:
ए। आधार वे जो झूठे मसीही विचारो पर विश्वास करते हैं जो बाइबिल नहीं हैं - परमेश्वर आपको सहन करने से अधिक नहीं देगा। १ करूं १०:१३
ख। आयतो को संदर्भ से बाहर निकालें - परमेश्वर ने आपको शुद्ध करने के लिए ये परीक्षाएं भेजी। १ पतरस १:१७
सी। आयतों को उनके अनुभव के साथ मिलाएं - मेरी कार टूट गयी थी; परमेश्वर मुझे अनुशासित कर रहा है। इब्रा १२:६
घ। शुरूआती बिंदु पर शुरू मत करे। यीशु-- यहुना १४: ९; इब्रा १: १-३
५. इस पाठ में, हम परमेश्वर के अनुशासन को देखना चाहते हैं।
ए। परमेश्वर अपने बच्चों को अनुशासित करते हैं, लेकिन कार की बर्बादी, बीमारी, बुरी शादियां और नौकरी छूटने के साथ नहीं।
ख। वह हमें अपने वचन के साथ अनुशासित करता है।

१. उनकी पृथ्वी सेवकाई के दौरान, लोगों के परमेश्वर के अनुशासन के प्रति रखे जाने वाले गलत विचारो के मुताबिक यीशु की एक भी उदाहरण नहीं है: उसने किसी को बीमार नहीं किया; किसी को भी बीमारी में नहीं छोड़ा; आपदाओं या किस के नुक्सान इत्यादि की / अनुमति नहीं दी
ए। जब वह किसी के व्यवहार से परेशान था, तो उसने तुरंत उन्हें बताया।
ख। उन्होंने वर्षों की अंतहीन पीड़ा नहीं भेजी / अनुमति नहीं दी जहां उन्हें पता नहीं था कि क्या गलत है, लेकिन परमेश्वर के कुछ संप्रभु उद्देश्य के लिए उनको ताड़ना समझा।
२. यीशु ने अपने वचन से लोगों को अनुशासित किया।
ए। मति १६: २२,२३ - पतरस शैतान से प्रभावित होता है।
ख। मरकुस ४:४० - शिष्यों ने थोड़ा विश्वास दिखाया।
सी। मरकुस १०: १७-२२ - एक आदमी पूरी तरह से यीशु के लिए प्रतिबद्ध नहीं था।
घ। लूका ९: ५१-५६ - एक पूरे गांव ने उनके संदेश को अस्वीकार कर दिया।
इ। लूका १३: ११-१७ - धार्मिक पाखंड
च। लूका २२: २४-३० - चेलों के बीच संघर्ष जो सबसे बड़ा होना चाहिए।
जी। यहुना ८:११ - व्यभिचार के कार्य में पकड़ी गई एक महिला।
३. प्रका २,३ में यीशु ने अपनी कलीसियाओं को संदेश दिया - कुछ चीजें जिनसे वह खुश थे, कुछ से वे नहीं थे।
ए। २: ४,५, ७; २: १४-१७; २: २०-२३; ३: २,३,६; १३; ३: १५-१८
ख। ३:१९ वह कहता है: मैं झिड़कता हूं और उन लोगों पर ताड़ना करता हूं जिन्हें मैं प्यार करता हूं, इसलिए पश्चाताप करो।
सी। उसने अपने वचन के साथ उन्हें अनुशासित करना समाप्त कर दिया था।
१. रिब्यूक = वर्ब; ताड़ना = PAIDEIA = एक बच्चे को प्रशिक्षित करना (शिक्षित)
२. अनुवादित चैस्टन्ट, निर्देश, सीखना, सिखाना।
४. अनुशासन क्या है? अनुशासन की बात क्या है?
ए। अनुशासन वह प्रशिक्षण है जो सुधारता है, ढालता है, या परिपूर्ण करता है; अनुशासन में सजा शामिल की जा सकती हैं।
ख। KJV में अनुशासन शब्द दिखाई नहीं देता है। यह ताड़ना शब्द है।
१. देखें कि इस शब्द का इस्तेमाल कैसे किया जाता है: प्रेरितों ७:२२; २२: ३; इफ ६: ४; २ तिमो २:२५; तीतु २:१२
२. परमेश्वर हमें अनुशासित करता है, लेकिन, वह अपने वचन के साथ ऐसा करता है। २ तिमो ३:१६
सी। अनुशासन में दो तत्व शामिल हैं; परमेश्वर का वचन दोनों करता है
१. ताड़ना = दोष को इंगित करना।
२. सुधार करना = बताना / दिखाना कि इसे कैसे बदलना है।

१. हमें संदर्भ में पढ़ना चाहिए; हम आयत पर एक तरफा अर्थ नहीं लगा सकते हैं - मेरे पास एक खटारा कार है = प्रभु मुझे अनुशासित कर रहा है।
२. यह पत्र हिब्रू मसीहियों को लिखा गया था जो उत्पीड़न के तहत थके हुए से हो गए थे।
ए। कुछ यहूदी मसीहियत को अस्वीकार करते हुए यहूदी धर्म में वापस चले गए थे; और अन्य इस पर विचार कर रहे थे।
ख। पत्र का पूरा उद्देश्य उन्हें प्रोत्साहित करना, उन्हें चेतावनी देना, उन्हें यीशु के पास वापस आने के कारण देना है।
३. इस आयात का उपयोग जिस तरह से कई मसीही करते हैं, हमें यह कहना होगा कि परमेश्वर उन्हें बता रहा है: मैंने तुमपर यह दुःख इसलिए भेजा कि तुम्हे अनुशासित करू, क्योंकि तुम मेरे बच्चे हो और मैं तुमसे प्यार करता हूँ।
ए। लेकिन शैतान १ थिस ३: १-५ के अनुसार उत्पीड़न का स्रोत है जैसे यह आयत हमने पहले भी पढ़ी थी।
ख। यह एक ऐसा घर होगा जो विभाजित होगा - अगर परमेश्वर मसीह के शरीर को सताएगा। मति १२: २४-२६
४. इस दिशा में कुछ प्रमुख बिंदुओं पर ध्यान दें।
ए। ताड़ना = PAIDEIA = यही शब्द २ तिमो ३:१६ में भी इस्तमाल किया गया है = निर्देश, प्रशिक्षण।
ख। शब्द ताड़ना हमारे लिए आयात ५ में परिभाषित किया गया है जैसे रिब्यूक = वर्ब।
सी। इब्रानियों अनुशासन (सुधार और निर्देश) का पत्र है।
१. इस पत्र में कई बार, लेखक कहता है: सुनो कि परमेश्वर तुमसे क्या कह रहा है - भटको मत।
२.१३:२२ = ''सफर'' पीड़ा (सहने, धैर्य से सहन करना) वचन का बोध।
३. दोष देना = किसी गलती की सलाह देना; फटकारना
घ। हमें डराने के बारे में क्या? MASTIGOO = to flog (lit or fig)
X१. परमेश्वर अपने वचन के साथ (हमें कोड़े मारता है)। यिर्म २३:२९ ; १ करूं ४:२१।
२. या तो यह कि फिर एक बड़ा हाथ / कोड़ा स्वर्ग से नीचे आना चाहिए)।
इ। आयात ७ यदि आप सहते हैं (डटे रहना; दृढ़ता) = उनके पास अनुशासन को स्वीकार करने या अस्वीकार करने का विकल्प है (कैंसर या खटारा कार के बारे में कोई विकल्प नहीं है।)
च। शब्द का संदर्भ हमारे लिए आयात ९ में सुधार के रूप में बताया गया है।
१. सुधार = ठीक करना।
२. सुधार का उद्देश्य निर्देश है - यह बताने के लिए कि आप क्या गलत कर रहे हैं ताकि आप इसे सही कर सकें - इसमें यह शब्द शामिल हैं।
जी। परमेश्‍वर हमें सही करता है (हमें उसके वचन के साथ निर्देश और प्रशिक्षण के उद्देश्य के लिए अनुशासित करता है)। २ करूं ७: ८-१०
५. संदर्भ में, ये आयात (इब्रा १२:५-७ ):
ए। पत्र के अनुशासनात्मक, सुधारात्मक उद्देश्य पर जोर देना = वफादार रहना या परिणाम भुगतना।
ख। हिब्रू मसीहियों को एक और सुझाव दिया कि वे अपनी परीक्षाओं को कैसे सहन करें। आयात ५;७
१. कठिनाइओं में दृढ़ रहे, जैसे अनुशासित । (NIV)
२. यह अनुशासन के लिए है जिसे आपको सहना होगा। (RSV)
सी। अनुशासन = प्रशिक्षित करने या विकसित करने के लिए या व्यायाम स्व नियंत्रण में परिभाषित है। (शब्दकोश)

१. बाइबल परमेश्वर के अनुशासन पर कुछ मापदंड रखती है।
२. परमेश्वर एक पिता के रूप में अनुशासित करता है जो अपने बच्चे से प्यार करता है।
ए। आयत ९ प्राकृतिक पिता के साथ तुलना करता है।
१. क्या सांसारिक पिता अपने बच्चों को कैंसर से अनुशासित करेगा?
२. क्या सांसारिक पिता अपने बच्चों को वर्षो तक सजा देगा जबकि बच्चे इस का कारण भी न जानते हो?
ख। यह समझने में हमारी मदद करने के लिए कि हमारे स्वर्गीय पिता हमारे साथ कैसा व्यवहार करना चाहते हैं, यीशु ने सांसारिक पिता के उदाहरण का उपयोग किया। मति ७: ९-११
सी। आयात ११ में यीशु ने सवाल उठाया: यदि आप जानते हैं कि अपने बच्चों के साथ सही व्यवहार कैसे करना है, तो क्या हमारा पिता परमेश्वर अधिक नहीं करेगा?
३. बीमारी के सिलसिले में शब्द ताड़ना का उपयोग एक बार किया जाता है। १ करूं ११:३२
ए। कोरिंथियन बुराई में फसे हुए थे - लोलुपता, मादकता, विभाजित। आयात १७-२२
ख। वे पूरे बिंदु को छोड़ रहे थे - प्रभु की मृत्यु को याद करते हुए।
सी। ऐसा करते हुए, वे पाप कर रहे थे, बीमारी और मृत्यु के रूप में खुद पर न्याय ला रहे थे। आयत २७-३०
घ। परमेश्वर ने उन परिणामों को अनुमति दी ताकि वे संसार के साथ दोषी न ठहरे। आयात ३२
४. इन बिंदुओं पर ध्यान दें:
ए। यह गंभीर पाप है।
ख। वे संसार के साथ दोषी कैसे ठहरे गे? अपने कार्यों द्वारा यीशु की मृत्यु को अस्वीकार कर के।
सी। इस पत्र के द्वारा इन लोगों को सुधारा जा रहा है।
१. लक्ष्य व्यवहार का तत्काल परिवर्तन है।
२. उस परिवर्तन का परिणाम उनके शरीर में चंगाई होगी।
घ। अगर वे पहले स्थान पर अपने व्यवहार द्वारा न्याय लाते, तो ऐसा कभी नहीं होता।
५. यह स्थिति इस से पूरी तरह से अलग है:
ए। कि मुझे कर्क रोग है; प्रभु मेरा ताड़ना कर रहा है। क्यों? मुझे नहीं पता; जैसा उसे अच्छा लगे; अपने उदेश्य के लिए।
ख। परमेश्वर अपने पवित्र सेवकों को बीमारी से ताड़ते हैं - ये लोग घोर पाप में थे !!
६. हमें यह समझने की जरूरत है कि ताड़ना (दंड) यीशु को दिया गया, इसलिए यह हमपर नहीं आएगा। यशा ५३:५
ए। वह जो ताड़ता है वह हमारे लिए स्वास्थ्य है और उसके द्वारा हमारे स्वास्थ्य को ठीक किया जाता है। (NEB)
ख। हमारे कल्याण के लिए उसकी ताड़ना हुई, उनके मार खाने से हमने चंगाई पाई। (Moffatt)
सी। उसे दंडित किया गया ताकि हमें शांति मिले। उसे पीटा गया ताकि हम चंगे हो जाएं। (नया जीवन)
७. क्योंकि उन्होंने मसीह के बलिदान को नहीं पहिचाना था, इसलिए उन पर यह ताड़ना आई।

१. अगर हम इन आयतों को संदर्भ से बाहर निकालते हैं, तो हमें परेशान करने वाली ख़बरें मिलती हैं: मसीह को न तो आज्ञाकारी और न ही पूर्ण, बनने के लिए दुःख उठाने कि आवश्यकता थी।
२. अध्याय २-५ के मुख्य बिंदुओं में से एक यह है कि मसीह परम पिता के सामने हमारा प्रतिनिधित्व करने के लिए सबसे अच्छा उच्च याजक है क्योंकि वह समझता है कि हम क्या अनुभव करते हैं क्योंकि उसने यह अनुभव किया है। २:१८
३. इब्रा २: ९-१८ हमारी मनुष्यता के साथ मसीह की पहचान के बारे में बात करता है।
ए। उसने शरीर ग्रहण किया और मनुष्य बना ताकि हमारे लिए दुःख उठाये और अपनी जान दे सके।
ख। क्योंकि उसने देह में जीवन का अनुभव किया, वह हमारे लिए पूर्ण उद्धारकर्ता है। आयात ९
१. उनके स्लाव के अग्रणी को परिपूर्ण बनाना चाहिए (अर्थात, अपने कार्यालय के लिए उच्च उपकरण के रूप में एक आदर्श उपकरण के लिए आवश्यक मानवीय अनुभव को परिपक्वता में लाना चाहिए), दुख के माध्यम से। (Amp)
२. परमेश्वर के लिए यह सही था कि वह यीशु को मनुष्यो के पापों के लिए दुःख उठाने देकर एक अगुआ बनाता। (नया जीवन)
सी। परिपूर्ण = TELEIOO = पूरा करने के लिए। (२:१०; ५: ९)
घ। इस आयत का हमारे लिए परमेश्वर के अनुशासन का कोई लेना देना नहीं है।
४. इब्रा ५:८ हमें बताता है कि यीशु ने सीखा कैसे दुःख उठाते हुए भी पिता कि आज्ञाओं का पालन करना हैI
ए। उसने सीखा कि एक मनुष्य के रूप में कैसा महसूस होता है, ताकि वह अब हमारे लिए खुद वही सही विकल्प बनाने में मदद कर सके।
ख। उसने आज्ञाकारिता के लिए नहीं सीखा, उसने सीखा कि कैसे आज्ञाकारिता में रहन है, जैसे कभी कभी हमे रहना चाहिए होता हैI
१ . इस प्रकार, हलाकि वह पुत्र था, इस सब से अपनी पीड़ाओं में उसने सीखा कि कैसे आज्ञाकारिता में रहना हैI (Moffatt)
२. जो उसे उठाने पड़े दुखो में उसने पाया कि आज्ञाकारिता क्या है। (Beck)
सी। इस आयात का भी अनुशासन की हमारी जरूरत से कोई लेना-देना नहीं है।

१. परमेश्वर हमें अपने वचन के साथ अनुशासित करता है।
२. यदि परमेश्वर आपको अनुशासित कर रहा है, तो आपको पता चल जाएगा कि समस्या क्या है, और आप इसे ठीक कर सकते हैं।
३. अगर हम वचन से अनुशासन का जवाब नहीं देते हैं, तो परमेश्‍वर हमें अपने व्यवहार के परिणामों को काटने की अनुमति देगा।
ए। आप अपने बच्चों को सड़क पार नहीं करने के लिए क्यों कहते हैं? उनके भले के लिए! आपको पता है कि उन्हें चोट लग सकती हैं!
ख। यदि वे आपकी अवज्ञा का पालन नहीं करते है उनको चोट लग जाती है , तो क्या आप ने ऐसा किया?
४. यह बहुत ज़रूरी है कि हम इस तरह का हल निकालें ताकि हम आत्मविश्वास के साथ जीवन का सामना कर सकें - परमेश्वर अच्छा है और अच्छे से भाव अच्छा है!